Corona Vaccine

कोरोना वैक्सीन का अंतिम परीक्षण नवंबर से होगा शुरू, स्वदेशी वैक्सीन आने से मिलेगी राहत

News Desk
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

कोरोना महामारी से उपजे हालात को देखते हुए भारत में स्वदेशी को रोना वायरस के खिलाफ लड़ने के लिए वैक्सीन तैयार की जा रही है स्वदेशी वैक्सीन का नाम को वैक्सीन दिया गया है करुणा के बढ़ते मामलों को देखते हुए भारत बायोटेक द्वारा विकसित की जा रही वैक्सीन का तीसरा क्लीनिकल परीक्षण नवंबर के पहले सप्ताह में शुरू होने जा रहा है एनआईएमएस से प्राप्त जानकारी के अनुसार नवंबर के पहले या फिर दूसरे सप्ताह में वैक्सीन का अंतिम परीक्षण शुरू होगा पहले चरण के परीक्षण सफलतापूर्वक पूरे कर लिए गए हैं क्लीनिकल ट्रायल के लिए नोडल ऑफिसर डॉ सी प्रभाकर रेड्डी ने कहा कि दूसरे चरण के परीक्षण में 12 लोगों को बूस्टर खुराक देकर और 55 अन्य लोगों को वैक्सीन दी जाएगी।

Advertisement

वैक्सीन देने के 14 दिनों के बाद भारत के सैंपल को इकट्ठा करके उन्हें भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद को भेजेंगे तो वहीं मेडिकल टीम ने कहा कि पहले चरण में 45 लोगों को एनआईएमएस का टीका लगाया गया जिसके बाद परिणाम आशीष चमक रहे हैं वहीं डॉ प्रभाकर रेड्डी ने बताया है कि पहले और दूसरे चरण में कुल 100 स्वयंसेवकों ने भाग लिया स्वयंसेवकों ने स्वास्थ्य की निगरानी लगभग 6 महीने से चल रही है उन्होंने कहा कि तीसरे चरण के परीक्षण में 200 लोगों के टीकाकरण की संभावना थी।

कोवैक्सीन का निर्माण स्वदेशी:

कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न हुई स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए भारत सरकार की तरफ से स्वदेशी कोरोना वैक्सीन का निर्माण किया जा रहा है यह पूरी तरह से स्वदेशी है वैक्सीन के आने से करुणा के बढ़ते मामलों में काफी कमी देखने को मिल सकती है जिस प्रकार से देश में कोरोना ने अपने पैर पसारे हैं उसे रोकने में यह वैक्सीन काफी कारगर साबित हो सकती है उम्मीद जताई जा रही है कि तीसरे चरण कि परीक्षण होने के बाद दिसंबर माह में इस वैक्सीन को बाजार में उतार दिया जाए।

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches