पटाखे फोड़ने वालो को गौतम गंभीर की नसीहत “हम अब भी लड़ाई के बीच में है पटाखे फोड़ने का वक़्त नहीं”

Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on reddit

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा देशवासियो से अपील की गयी थी की एकता का परिचय देते हुए पांच अप्रैल को रात 9 बजकर 9 मिनट पर दीप जला जलना है परन्तु कुछ इसके विपरीत पटाखे भी फोड़े जो सांसद गौतम गंभीर को न गवार गुजरा।

जैसा की प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अपील की थी, पूरे देश ने रविवार को अपनी बालकनियों में मोमबत्तियाँ और दीया जलाईं। यह इसलिए करने को कहा गया था क्यूंकि कोरोनवायरस के खिलाफ लड़ाई में एकजुटता दिखाना था। हालाँकि, पीएम के “दीया जलाव” ’की अपील के विपरीत, कई लोगों को पूरे भारत में पटाखे फोड़ते देखा गया। जैसे ही घड़ी ने 9 के कांटे को छुआ , भारत भर के लोगों ने अपने घरों में रोशनी बंद कर दी और बालकनियों में अंधेरे कर कोरोना को हराने के लिए मोमबत्ती, टॉर्च, दीया जलाकर बालकनियों में इकट्ठा हो गए। हालाँकि, लोगों ने पटाखे फोड़ने का सहारा लिया और कई स्थानों पर हिंदू भक्ति गीत, मंत्र और राष्ट्रगान भी बजाए गए।

Also Read: पिछले 24 घंटे में कोरोना के 693 नए मामले आये सामने, जानिए कुल कितनी है कोरोना मरीजों की संख्या

भारत के पूर्व क्रिकेटर और भाजपा सांसद गौतम गंभीर कोन जैसे ही इस कदम की भनक लगी उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “INDIA, STAY INSIDE! हम अभी भी एक लड़ाई के बीच में हैं। पटाखे फोड़ने का अवसर नहीं! ” गंभीर ने चिकित्सा उपकरणों की खरीद और राष्ट्रीय राजधानी में COVID-19 रोगियों के उपचार के लिए दिल्ली सरकार को 50 लाख रुपये और दान करने का संकल्प लिया है।

एक पत्र में, गंभीर ने कहा: “दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि दिल्ली के कई सरकारी अस्पतालों में चिकित्सा उपकरणों की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए धन की आवश्यकता है।” तो 50 लाख रुपये के अलावा जो मैंने दो सप्ताह पहले प्रतिज्ञा की थी, मैं अपने एमपी फण्ड से अपने कार्यकाल में 50 लाख रुपये की प्रतिज्ञा इस उम्मीद के साथ करना चाहूंगा कि उक्त राशि चिकित्सा कर्मचारियों के लिए उपकरणों की खरीद में उपयोगी होगी और COVID-19 रोगियों का उपचार इससे होगा।

Also Read: उत्तरप्रदेश में 19 वर्ष के युवक ने 8 साल की बच्ची का किया रेप, पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार

गंभीर के अलावा, भारत के पूर्व खिलाड़ी इरफान पठान और स्पिनर आर अश्विन ने भी उस समय पटाखे फोड़ने वाले लोगों पर चिंता जताई जब पूरी दुनिया महामारी से लड़ रही है।

Also Read: BIT सिंदरी के तीन छात्रों ने बनाया कोरोना से संक्रमित व्यक्ति का पता लगाने वाला बैंड

पठान ने ट्वीट कर कहा “यह बहुत अच्छा था जबर्दस्त पीपीएल ने पटाखे फोड़ना शुरू कर दिया #IndiaVsCorona” जबकि अश्विन जिन्होंने अपने ट्विटर हैंडल का नाम बदलकर ‘भारत को रहने देते हैं’ रखा, उन्होंने ट्वीट किया, “लेकिन मुझे वास्तव में आश्चर्य है कि इन सभी लोगों ने अपने पटाखे खरीदे और फोड़े भी. भारतीय कप्तान विराट कोहली, रोहित शर्मा, हरभजन सिंह, सुरेश रैना और सचिन तेंदुलकर सहित क्रिकेटरों ने एकजुटता दिखाने के लिए अपनी बालकनियों में दीपक जलाया।

Leave a Reply

In The News

स्वच्छ सर्वेक्षण 2020: भारत के टॉप 5 गंदे शहर

स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 के तहत स्वच्छता के वार्षिक सर्वेक्षण में भारत के सबसे स्वच्छ शहर और सबसे गंदे शहरों का…

सितंबर में खत्म होगा मेट्रो का लॉकडाउन, इन नियमों के साथ आप कर पाएंगे सफर

तालाबंदी के चलते 150 दिन से बंद मेट्रो का परिचालन सितंबर से शुरू करने की तैयारी है। सूत्रों की माने…

पीएम मोदी ने चिट्ठी लिखकर की धोनी की जमकर तारीफ, धोनी ने ऐसे किया शुक्रिया

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान रांची के राजकुमार महेंद्र सिंह धोनी ने अचानक सोशल मीडिया के जरिए 15 अगस्त को…

सुशांत सिंह मामले कि जाँच करेगी CBI, सुप्रीम कोर्ट ने दिए आदेश

अभिनेता सुशांत सिंह आत्महत्या मामले में सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला आया है. अदालत ने यह भी कहा है कि…

दोस्त की प्रेमिका के साथ युवको ने किया गैंगरेप, इश्क में घर से भागना पड़ गया महंगा

प्यार में एक युवती को घर से भागना महंगा पड़ा है. अपने प्रेमी के साथ इश्क के वादे निभाने के…

स्थानीय नीति को लेकर बीजेपी-झामुमो आमने-सामने, स्थानीयता को लेकर बीजेपी नेता ने हेमंत पर लगाया बड़ा आरोप

झारखंड में स्थानीय नीति का मुद्दा सबसे बड़ा रहा है. स्थानीय नीति कि वजह से ही बीजेपी के वर्तमान विधायक…

Get notified Subscribe To The News Khazana

Follow Us

Popular Topics

Trending

Related News

जोहार 😊

Popular Searches