jamia

100 साल का हुआ जामिया मिल्लिया इस्लामिया, असहयोग आंदोलन से उपजा यह विश्वविद्यालय

tnkstaff
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय का आज सोमवार स्थापना दिवस है कोरोनावायरस होने के कारण इस वर्ष धूमधाम से जामिया का स्थापना दिवस नहीं मनाया जाएगा लेकिन जामिया स्कूल के विद्यार्थियों के द्वारा विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से के साथ-साथ बनाया जाएगा. हाल ही में भारत के शिक्षा मंत्रालय द्वारा जारी किए गए देश के 10 सबसे प्रभावशाली और महत्वपूर्ण विश्वविद्यालयों में जामिया मिलिया इस्लामिया प्रथम स्थान पर रहा है.

Advertisement

जामिया की स्थापना उस ब्रिटिश हुकूमत की शैक्षिक व्यवस्था के खिलाफ एक बगावत थी जो अपना औपनिवेशिक शासन चलाने के लिए सिर्फ ”बाबुओं” को बनाने तक सीमित थी।जामिया ने अपनी इस भूमिका को बखूबी अंजाम दिया है.

जामिया मिलिया इस्लामिया की स्थापना उस वक्त हुई थी जब भारत अंग्रेजों के विरुद्ध असहयोग आंदोलन और खिलाफत आंदोलन चला रहा था उसके बाद अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के कुछ शिक्षक एवं छात्रों के द्वारा 29 अक्टूबर 1920 को जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय की नींव रखी गई थी. जामिया के निर्माण में स्वत्रंता सेनानी, मुहम्मद अली जौहर, हकीम अजमल खान, डॉक्टर जाकिर हुसैन, डॉक्टर मुख्तार अहमद अंसारी, अब्दुल मजीद ख्वाजा, मौलाना महमूद हसन जैसे लोगों का प्रमुख योगदान रहा है.

जामिया मिलिया इस्लामिया शुरुआत में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के अधीन था लेकिन 1925 में या अलीगढ़ से अलग होकर दिल्ली स्थानांतरित हो गया जिस के बाद इसे काफी आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ा लेकिन महात्मा गांधी के द्वारा या कहा गया कि चाहे कुछ भी हो जाए कितनी भी मुश्किलें क्यों ना आ जाए स्वदेशी शिक्षण संस्थाएं बंद नहीं होनी चाहिए. जामिया के आर्थिक तंगी को देखते हुए गांधी जी ने कहा था कि यदि जामिया को बचाने के लिए मुझे भीख मांगने पड़े तो मैं वर्क करने के लिए तैयार हूं

जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय देश का एकमात्र ऐसा विश्वविद्यालय है जो थल सेना वायु सेना और जल सेना के अधिकारियों के लिए आगे की पढ़ाई मुफ्त में करवाता है वही जामिया मिलिया इस्लामिया देश के सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा यूपीएससी के लिए भी मुफ्त में कोचिंग करवाता है जामिया मिलिया इस्लामिया से यूपीएससी में काफी संख्या में विद्यार्थी सफल होकर देश की सेवा में लगे हैं

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches