Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on email
Share on print
Share on whatsapp
Share on telegram

गुजराल ने सख्त लहजे में कहा की उनकी पार्टी अकाली दल NRC के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि नए नागरिकता संशोधन में मुस्लिमों को भी शामिल किया जाना चाहिए, उन्होंने कहा यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि एनडीए में चर्चा नागरिकता अधिनियम जैसे महत्वपूर्ण विधानों का जिक्र करते हुए नहीं होती है, यह भी दुर्भाग्यपूर्ण है कि एनडीए घटक दलों के बीच कोई परामर्श नहीं होता है, यही कारण है कि एनडीए के अधिकांश सहयोगी दुखी है |

गुजराल ने कहा मैंने यह बार-बार कहा है कि हमें वाजपाई वर्ष की आवश्यकता है

वाजपाई जी ने अगर आपको याद है लगभग 20 दलों के साथ गठबंधन किया था, गठबंधन में तब सभी लोग खुश थे क्योंकि सभी का सम्मान मिलता था उन्होंने सभी दलों को समान भाव से देखा वाजपेई जी का दरवाजा हमेशा खुला रहता था वहां परामर्श होते थे उन्होंने कहा कि वाजपेई जी से सिर्फ एक ही नेता ने इस तरह का व्यवहार सीखा था वह दुनिया में नहीं रहे |

NRC, CAA का फैसला देशहित में नहीं | में इस बिल के खिलाफ हूँ |

Leave a Reply