कपिल मिश्रा के वीडियो पर HC ने कहा- कोई हिंसा भड़काने वाला बयान देता है और पुलिस उस पर कार्रवाई नहीं करती

Shah Ahmad
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा के मामले में दखल देने से सुप्रीम कोर्ट ने मना कर दिया है. कोर्ट ने कहा है कि हाई कोर्ट पहले ही मामले को देख रहा है. शाहीन बाग में सड़क रोक कर बैठे लोगों को वहां से हटाने की मांग करने वाली याचिका पर भी कोर्ट ने सुनवाई टाल दी है. कहा है कि फिलहाल दिल्ली के हालात ऐसे नहीं है कि इस मामले पर सुनवाई की जाए. मामले पर अगली सुनवाई 23 मार्च को होगी.

पुलिस के रवैये पर टिप्पणी

इसके बाद चर्चा का रुख दिल्ली में हिंसा के दौरान पुलिस के लाचर रवैये की तरफ मुड़ गया. 2 जजों की बेंच के सदस्य जस्टिस के एम जोसेफ ने कहा, “ऐसा क्यों होता है कि पुलिस उपद्रव की स्थिति में आदेश की प्रतीक्षा करती है. कोई हिंसा भड़काने वाला बयान देता है और पुलिस उस पर कार्रवाई नहीं करती. अगर समय पर पुलिस कार्रवाई करे, पुलिस के हाथ न रोके जाएं तो हिंसा पर काफी हद तक लगाम लगाई जा सकती है. इंग्लैंड और अमेरिका जैसे देशों में भड़काऊ बयान देने वालों पर कार्रवाई से पहले पुलिस को सरकार से इजाजत नहीं लेनी पड़ती. जस्टिस कौल ने बात को आगे बढ़ाते हुए कहा, “प्रकाश सिंह मामले में हमने पुलिस व्यवस्था में सुधार को लेकर व्यापक आदेश दिए थे. लेकिन पूरे देश में उसका पालन नहीं किया गया.”

images.jpg

Also Read: राँची विश्वविद्यालय में एबीवीपी का हंगामा, कुर्सी जलने का केस वापस लेने की मांग

क्या है मामला

शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ पिछले करीब 70 दिनों से सड़क रोक कर बैठे लोगों के मसले पर सुप्रीम कोर्ट में 20 दिनों से मामला लंबित है. कोर्ट ने शुरू में चुनाव की वजह से सुनवाई टाली, बाद में सरकार का जवाब देखकर आदेश देने की बात कही. फिर शाहीन बाग के लोगों को समझाने के लिए दो वार्ताकार- संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन नियुक्त कर दिए. वार्ताकार लोगों को सड़क से हटने के लिए समझा पाने में नाकाम रहे हैं. ऐसे में याचिकाकर्ता कोर्ट से किसी ठोस आदेश की उम्मीद कर रहे थे. लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगी. कोर्ट ने कहा, “हम होली की छुट्टियों के बाद मामले की सुनवाई करेंगे.”

वार्ताकार संजय हेगड़े ने इसका समर्थन करते हुए कहा, “शायद होली के रंग लोगों में आपसी प्रेम बढ़ाएं. इस पर जज ने भी कहा, “हम चाहते हैं कि हर कोई अपना गुस्सा शांत करे. समाज से ऐसे बर्ताव की उम्मीद नहीं की जाती.”

Also Read: देश में अमन-चैन के लिए आंदोलनकारी महिलाओं ने रखें:-रोजे

वार्ताकारों की रिपोर्ट

सुप्रीम कोर्ट को सौंपी लगभग 10 पन्ने की रिपोर्ट में वार्ताकारों ने बताया है कि प्रदर्शनकारी शाहीन बाग में सड़क से हटने को तैयार नहीं है. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वह सिर्फ एक सड़क पर बैठे हैं. 5 रास्तों को दिल्ली पुलिस ने खुद बंद कर दिया है. पुलिस और कोर्ट उनकी सुरक्षा की गारंटी ले और बाकी रास्तों को खोल दे. इससे नोएडा-दिल्ली और दिल्ली-फरीदाबाद को जोड़ने वाले यातायात काफी हद तक आसान हो जाएगा. लाखों लोगों को हो रही परेशानी का जिम्मा अकेले प्रदर्शनकारियों पर नहीं डाला जा सकता. वह अपने लोकतांत्रिक अधिकार का इस्तेमाल कर रहे हैं.

Also Read: पूर्वोत्तर दिल्ली के मौजपुर में भीड़ द्वारा एक पुलिस वाले की मौत, वाहनों और घरों में आग लगाया गया

कोर्ट का आदेश

कोर्ट ने आज इस रिपोर्ट पर कहा, “सफलता मिले या न मिले, मामलों के हल के लिए प्रयोगात्मक कोशिश होती रहनी चाहिए. हम वार्ताकारों की भूमिका को बंद नहीं कर रहे हैं. वह आगे भी अपने भूमिका निभा सकते हैं.“ सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई फिर टलने पर सॉलीसीटर जनरल तुषार मेहता ने कहा, कोर्ट हमें शाहीन बाग में उचित कार्रवाई करने की इजाजत दे. इस पर बेंच के अध्यक्ष जस्टिस संजय किशन कॉल ने कहा, “हम अपनी तरफ से कोई आदेश नहीं दे रहे हैं. लेकिन किसी के ऊपर कोई रोक भी नहीं लगा रहे हैं. पुलिस कानूनन जो उचित कार्रवाई है, वह कर सकती है.”

सॉलिसीटर जनरल का एतराज

इस पर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा, “आज चर्चा का विषय प्रकाश सिंह मामला नहीं है. मेरा कोर्ट से निवेदन है कि यहां कोई ऐसी बात ना की जाए, जिससे पुलिस के मनोबल पर असर पड़े. हमने हिंसा में एक कॉन्स्टेबल को गंवाया है. डीसीपी स्तर के अधिकारी को बुरी तरह से मारा-पीटा गया है. फिलहाल जरूरत इस बात की है कि पुलिस को अपना काम करने दिया जाए.” मेहता ने यह भी कहा कि अगर भारत की पुलिस इंग्लैंड की पुलिस की तरह त्वरित कार्रवाई करेगी तो सबसे पहले कोर्ट ही मामले में दखल देगा.

Also Read: पोस्ट ऑफिस में है आपका खाता तो जान ले ये जरुरी बात, नहीं तो बंद हो जायेगा आपका अकाउंट

याचिकाकर्ता ने जताई निराशा

मामले में याचिकाकर्ता अमित साहनी ने एबीपी न्यूज़ से बात करते हुए कहा, “हम निराश हैं कि कोर्ट ने आज भी कोई आदेश नहीं दिया. हम लाखों लोगों को हो रही समस्या को लेकर कोर्ट पहुंचे थे. लेकिन अलग-अलग वजह से कोई आदेश नहीं आ पा रहा है. कोर्ट ने कहा है कि पुलिस अपने हिसाब से कार्रवाई कर सकती है. वैसे भी कोर्ट में लंबित कोई मामला पुलिस को स्थिति के आधार पर कार्रवाई करने से नहीं रोकता. अब सरकार को देखना है कि वह लोगों की समस्या को हल करने के लिए क्या कर सकती है.”

Leave a Reply

In The News

केन्द्र सरकार का आदेश इस दिन खुलेगे सिनेमा घर, स्कूल खोलने का अधिकार राज्यों को दिया गया

कोरोना महामारी के कारण उपजे स्थिति को देखते हुए केंद्र सरकार के द्वारा मार्च महीने से ही लॉकडाउन की घोषणा…

BJP: बिहार चुनाव से ठीक पहले BJP के राष्ट्रीय संगठन में फेरबदल, झारखंड से इन्हें मिला मौका

बिहार में विधानसभा चुनाव के तारीखो का एलान शुक्रवार को कर दिया गया है। सभी राजनीतिक दल अपने हिसाब से…

ऐसा कोई सबूत नहीं है जो साबित कर सके की तब्लीगी जमात के द्वारा कोरोना फैला है: बॉम्बे हाईकोर्ट

चीन से फैसले कोरोना वायरस का प्रकोप भारत में भी देखने को मिला है। शुरुआती दौर में कोरोना को तब्लीगी…

Shaheenbagh Dadi: शाहीनबाग की दादी को मिला TIME मैंग्जीन के 100 प्रभावशाली हस्तियों में जगह

मोदी सरकार के द्वारा नागरिकता कानून लागू किए जाने के बाद देश भर में इसका विरोध शुरू हो गया था.…

पहली बार नौसेना के हेलीकाप्टर चालक दल में शामिल हुई 2 महिला अधिकारी

भारत के इतिहास में पहली बार ऐसा हो रहा है कि भारतीये नौसेना के हेलीकाप्टर चालको के बेड़े में किसी…

कृषि विधेयक के खिलाफ 25 सितंबर को भारत बंद को लेकर ट्विटर पर चला ट्रेंड

केंद्र सरकार के द्वारा लोकसभा में तीन कृषि क्षेत्र विधेयकों को पारित करने के बाद कई किसान संगठनों ने तीव्र…

जोहार 😊

Popular Searches