Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on email
Share on print
Share on whatsapp
Share on telegram

पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने तीनों विधानसभा उपचुनाव जीत लिए हैं, 2021 में भाजपा के साथ ब्लॉकबस्टर प्रतियोगिता के लिए टीएमसी फिर एक बार तैयार है. कलियागंज, खड़गपुर-सदर और करीमपुर सीट जीत कर टीएमसी ने भाजपा को अपनी ताकत दिखा दिया है.

TMC Party Workers

करीबी मुकाबले में तृणमूल कांग्रेस के तपन देब सिन्हा ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के कमल चंद्र सरकार को 2,418 मतों से हराकर जीत हासिल की।

पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के परमनाथ राय ने इस सीट पर जीत दर्ज की थी। पार्टी ने उनकी बेटी धृतश्री को चुनाव लड़वाया जो तीसरे स्थान पर रहीं। रायगंज लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत कालीगंज एक विधानसभा क्षेत्र है, जिसे भाजपा ने कुछ महीने पहले मुश्किल से जीता था।

Read This: प्रज्ञा ठाकुर द्वारा गोडसे पर की गयी टिप्पणी के बाद संसद के रक्षा समीति से किया गया बाहर

टीएमसी के प्रदीप सरकार ने खड़गपुर सदर सीट से चुनाव लड़ा। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के प्रतियाशी को 20,788 मतों के आरामदायक अंतर से हराया।

खड़गपुर सदर में हार भाजपा के लिए एक झटका है, यहाँ से बंगाल भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष चुनावी मैदान में थे. मेदिनीपुर से लोकसभा के लिए चुने जाने से पहले वहां से विधायक थे। मेदिनीपुर लोकसभा क्षेत्र में एक विधानसभा क्षेत्र में खड़गपुर सदर है.

करीमपुर के लिए टीएमसी के उम्मीदवार बिमलेंदु सिन्हा रॉय ने बीजेपी प्रतिद्वंद्वी जयप्रकाश मजुमदार के खिलाफ जीत दर्ज की और अपनी पार्टी के लिए सीट बरकरार रखी। टीएमसी के मोहुआ मित्र ने कृष्णानगर से लोकसभा के लिए चुने जाने से पहले पिछले चुनाव में करीमपुर को जीत लिया था।

यह पहली बार है कि टीएमसी ने कलियागंज और खड़गपुर सीटों पर कब्जा जमाया है। पश्चिम बंगाल की जनता के लिए पार्टी की जीत को समर्पित करते हुए, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि मतदाताओं ने भाजपा को “सत्ता के अहंकार” के लिए “भुगतान” किया। उन्होंने कहा, “हम इस जीत को बंगाल की जनता को समर्पित करते हैं। भाजपा को सत्ता के अहंकार और बंगाल के लोगों के अपमान के लिए वापस भुगतान किया जा रहा है।”

Leave a Reply