Skip to content

किसी भी शख्स को अपनी जीवन साथी चुनने का संविधानिक अधिकार:- इलाहाबाद हाईकोर्ट

amirtnk

भारत में बीजेपी शासित राज्य लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने की वकालत कर रहे हैं कई राज्य इसे लेकर प्रस्ताव भी तैयार कर चुके हैं और मान्यता देने की बात है कह रहे हैं उन राज्यों में उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार भी शामिल है जो लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने की बात कर रही है लेकिन इस बीच इलाहाबाद हाई कोर्ट का एक अहम फैसला आया है जिसमें कहा गया है कि किसी भी शख्स को अपना जीवनसाथी चुनने का पूरा अधिकार है कोर्ट ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि दो बालिग लोग अपना जीवन साथी एक दूसरे को चुन सकते हैं साथ ही वे एक साथ रह सकते हैं चाहे वह किसी भी धर्म या जाति के

दरअसल, उत्तर प्रदेश के कुशीनगर के सलामत अंसारी और तीन अन्य की तरफ से अदालत में एक याचिका दाखिल की गई थी जिस पर इलाहाबाद कोर्ट में सुनवाई हुई सुनवाई के दौरान अदालत ने कहा जिस सलामत और प्रियंका ने परिवार की मर्जी के खिलाफ शादी की जून पर आरोप लगा है साथ ही दोनों ने मुस्लिम रीति-रिवाज के साथ शादी की है शादी के बाद प्रियंका खरवार अब आलिया बन गई है प्रियंका के पिता ने मामले में एफ आई आर दर्ज कराई है उन्होंने बेटी के अपहरण और पोस्को एक्ट के तहत एफ आई आर दर्ज करवाई है

सलामत अंसारी और तीन अन्य लोगों पर दर्ज हुई किस पर हाईकोर्ट ने कहा कि प्रियंका खरवार गोपालिया को अपने पति के साथ रहने का पूरा अधिकार है साथ ही इस मामले पर पोस्को एक्ट लागू नहीं होता है द का कोई विवाद नहीं है उसकी उम्र 21 साल है इसलिए उसे कानून अपना जीवनसाथी चुनने का पूरा अधिकार देता है अदालत ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि कानून दो व्यक्तियों को एक साथ रहने की अनुमति देता है तो फिर किसी और को उनके संबंधों पर आपत्ति क्यों.

Leave a Reply