Skip to content
92286723_2607677702806572_8983383335898458798_n.jpg

गया जिला ज्ञान और मुक्ति का द्वार! गया जिला का नाम गया कैसे पड़ा?

News Desk

वैसे तो पूरा बिहार धर्म और कर्म दोनों के लिए जाना जाता है गया जिला ज्ञान और मुक्ति का द्वार है गयासुर एक राक्षस था जो बहुत धार्मिक था कोई भी कितना भी पाप करता था गयासुर का चरण स्पर्श करता था तो उसका सब पाप माफ हो जाता था और उसे बैकुंठ में जगह मिलता था ऐसा होने से यमराज गुस्सा हो गए क्योंकि यमलोक में बहुत कम इंसान आ रहा था मरने के बाद यमराज ने विष्णु से आग्रह किया भगवान से अनुरोध किया की गयासुर का शरीर पर यज्ञ किया जाए विष्णु भगवान गयासुर से उसका शरीर मांग लिय   यज्ञ करने के लिए बोले तुम्हारे शरीर पर ऋषि यज्ञ करेंगे गयासुर बहुत खुश हुआ कि विष्णु ने हमसे कुछ मांगने आए हैं.

Advertisement
गया जिला ज्ञान और मुक्ति का द्वार! गया जिला का नाम गया कैसे पड़ा? 1
Photo Credit: @multimillionaro

Also Read: मैं खेलेगा (Story)

यज्ञ करने के लिए यज्ञ करने के लिए उसके शरीर पर एक बड़ा सा चट्टान रखा गया फिर विष्णु भगवान ने चट्टान को अपने पैरों से दबा दिया जो अभी भी पैर का चिन्ह उपलब्ध है विष्णुपद के नाम से जाना जाता है अपने पूर्वजों के मुक्ति के लिए विष्णुपद में आकर आत्मा के शांति के लिए पिंडदान करते हैं इससे आत्मा को शांति मिल जाती है हर दिन कोई न कोई आकर अपने पूर्वजों के लिए पिंडदान करते हैं जिससे आत्मा को शांति मिले साल में एक बार पितृपक्ष का मेला लगता है जिसमें पूरा विदेश से देश से अलग-अलग राज्यों से आते हैं पिंडदान करने के लिए अपने पूर्वजों के लिए आत्मा की शांति के लिए

Story: Ravikant Kumar

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches