Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on email
Share on print
Share on whatsapp
Share on telegram

सुशासन बाबू के नाम से मशहूर बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार के शासन काल में अपराधी बेलगाम हो गए है. आये दिन अप्राधिओं के द्वारा किसी न किसी घटना को अंजाम दिया जाता है और फिर अपराधी आराम से चलते बनते है. जिस तरह से आपराधिक घटनाये बिहार में बढ़ रहे है वो नितीश कुमार के लिए आने वाले विधानसभा चुनाव में मुश्किले कड़ी कर सकता है.

समसा पंचायत की मुखिया हेमा मौर्य को अपराधियों ने मूर्ति विसर्जन के दौरान भीड़ से खींच कर 8 गोलियां मार दीं। जिससे बूढ़ी गंडक किनारे स्थित घटनास्थल पर ही मुखिया हेमा मौर्य की मौत हो गई। घटना के बाद अपराधी हाथ में हथियार लहराते हुए चले गए। घटना की सूचना पाकर नावकोठी, नीमा चांदपुरा, बखरी, परिहारा ओपी पुलिस घटना स्थल पर पहुंची। ग्रामीणों के विरोध के कारण पुलिस शव को कब्जे में नहीं ले सकी।

Also Read: यूपी की शिक्षिका ने फेसबुक पोस्ट में शबाना आज़मी का किया बचाव – हो गयी निलंबित

घटना की जानकारी मिलने पर एसपी अवकाश कुमार सहित अन्य पुलिस अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे। पुलिस को घटनास्थल से थ्री फिफ्टीन को दो खोखा बरामद किया है। घटनास्थल पर ग्रामीण घटना में बमबम महतो, उसके पुत्र रंजीत महतो एवं हरेराम महतो उर्फ टुकिया के शामिल होने का आरोप लगा रहे थे।

Leave a Reply