Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest
Share on email
Share on print
Share on whatsapp
Share on telegram

राहुल गांधी के अलावा, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और नेता प्रियंका गांधी ने भी दिल्ली के रामलला मैदान में ‘भारत बचाओ’ रैली को संबोधित किया

ELuywvpUcAA-gcA

भाजपा नेताओं द्वारा राहुल गांधी से माफी मांगने की मुखर मांग के बीच, उनकी टिप्पणी पर कि ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम ‘भारत में बलात्कार’ में बदल गया है इस पर शुक्रवार को संसद में भाजपा की मंत्री स्मृति ईरानी ने जमकर हंगामा किया और राहुल गाँधी से माफ़ी मांगने की मांग कर रही थी जिसके बाद सदन को स्थगित कर दिया गया. संसद से बाहर निकलने के बाद उन्होंने कहा की मोदी जी ने इसी तरह से एक भाषण दिया था जिसे में ट्विटर पर दाल दूंगा ताकि सब लोग देख सके

गांधी ने राजधानी दिल्ली के रामलीला मैदान में ‘भारत बचाओ’ रैली को संबोधित करते हुए कहा, “मेरा नाम राहुल गांधी है, न कि राहुल सावरकर। मैं सच बोलने के लिए कभी माफी नहीं मांगूंगा और न ही कोई कांग्रेसी ऐसा करेगा।” उन्होंने कहा वास्तव में, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और “उनके सहायक अमित शाह” से “देश की अर्थव्यवस्था को नष्ट करने के लिए” माफी माँगने चाहिए

Also Read:Article 370, राम मंदिर और CAB के बाद भाजपा दो और कानूनों को कर सकती है लागू

अर्थवयवस्था को “नष्ट” करने के लिए प्रधानमंत्री को दोषी ठहराते हुए, राहुल गांधी ने कहा, “यह खुद प्रधानमंत्री मोदी हैं न कि भारत के दुश्मन, जिन्होंने हमारी अर्थव्यवस्था को नष्ट कर दिया है, और वह अभी भी खुद को देशभक्त कहते हैं।”

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने आगे देश के संस्थानों का प्रतिनिधित्व करने वाले लोगों से डरने का आग्रह नहीं किया, उन्होंने कहा: “हम मिलकर भय के इस माहौल को दूर करेंगे”।

राहुल गांधी से पहले उनकी बहन और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने रैली को संबोधित किया।

विवादास्पद नागरिकता संशोधन अधिनियम, 2019 को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए, प्रियंका ने कहा: “यह कानून देश के विभाजन का कारण बन जाएगा। अगर हम अब आवाज नहीं उठाते हैं, तो देश आगे विभाजित हो जाएगा। यदि आप देश से प्यार करते हैं। तो इसके खिलाफ अपनी आवाज उठाएं। “

Leave a Reply