Skip to content

Jharkhand Budget Session: साक्षरता नीति पर मुख्यमंत्री का जवाब बना सवाल, पहले आप बताएं कि आप 32 के समर्थक हैं या 60 40 के

zabazshoaib
Advertisement
Jharkhand Budget Session: साक्षरता नीति पर मुख्यमंत्री का जवाब बना सवाल, पहले आप बताएं कि आप 32 के समर्थक हैं या 60 40 के 1

Jharkhand Budget Session: झारखंड विधानसभा बजट के मामले में एक निश्चित नीति को लेकर लगातार उत्तर देने का दबाव बना रहा था. वहीं अब इस मामले में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी सदन में सवाल उठाते हैं कि कोई भी सर्वोच्च पक्ष सबसे पहले ये बताता है। सीएम ने आगे कहा कि आप पहले ये बताएं कि आप 32 के समर्थक हैं या 60 40 के। यदि आप 32 के समर्थक हैं तो कोर्ट क्यों बनता है। सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि इस विषय पर मैं बाद में विस्तार से बोलूंगा, हमारे पास भी तथ्य हैं।

Advertisement
Advertisement

वहीं हेमंत सोरेन ने सेंटर सरकार पर फोकस साधते हुए कहा कि 16 दिसंबर ठप है, ये देश मे पहला मौका है जब सत्ता पक्ष ने दिसंबर को हाई जेक कर रखा है. झारखंड में भी ये लोग यही चाहते हैं कि भगवान कि करवाही रूकी रहे. इसके बाद कल सदन की वीडियो वायरल होने पर स्पीकर से एक्शन की मांग की। मनीष जायसवाल के कुर्ता प्रदर्शन पर कहा कि ये लोग झूठ बोलते हैं राम भक्ति दिखाते हैं। वे सब हो कि परमेश्वर सब देख रहा है।

Jharkhand Budget Session: आगे सीएम ने कहा कि कल मैंने राम मंदिर के लिए सौंदर्यीकरण का काम किया। इसके एवज में पिछले सप्ताह कोई प्रचार प्रसार नहीं किया गया। हम तार्किक के करतूत को जनता को सम्बोधित करते हैं। वहीं अमर बाउरी द्वारा दिए गए स्पष्टीकरण नीति भाषण पर मुख्यमंत्री की टिप्पणी “ये ऐसे बोलते हैं जैसे रो रहे हैं”। आगे सीएम ने कहा कि ये उनके पास आते हैं और कोई काम नहीं होता है। वहीं स्थानीयता मामले पर बोलते हुए सीएम ने कहा कि स्थानीयता पर मैं जवाब दूंगा।

इसके बाद सीएम ने बीजेपी के रूप में कहा कि जब आप लोग 32 आते हैं तो भागते हुए कोर्ट क्यों बन जाता है। जब सरकार 60 40 की ग्रेडिंग पात्रता है तो डोम क्यों नहीं चलते हैं। मुंह पर राम बगल में छुरी। ऐसा नहीं होगा। वहीं सीएम ने इको सेंसिटिव जोन के सवाल पर कहा कि इसे लेकर सेंटर को रिपोर्ट चिंता है अब सेंटर की तरफ से देरी हो रही है और इन दिनों सेंटर और राज्य सरकार के संबंध कैसे है ये किसी से छुपा नहीं है।

Also read: Jharkhand Budget: नहीं मिलेगी नौकरी तो राज्य सरकार देगी प्रोत्साहन राशि, शहरों में हॉस्टल बनाने का प्रस्ताव

वहीं हेमंत सोरेन ने संबंधित के जारी हंगा में को लेकर सख्त शब्दों में कहा कि देश में पहली बार ऐसा हुआ है कि सत्ता पक्ष के लोग ही दिसंबर को नहीं चल रहे हैं। दिल्ली की 16वीं को तैसे सत्ता पक्ष ने हाई जैक किया है वही लोग यहां भी चाहते हैं। इसके बाद मुख्यमंत्री ने वक्ता से कहा कि पिछले कई दिनों से विधानसभा की करवाही में तोड़फोड़ करने के कारण आंतरिक कड़ी कार्रवाई की गई है। इन लोगों पर यहोवा की अवमानना ​​की कार्रवाई करें।

Story by -Divya Kumari

Advertisement
Jharkhand Budget Session: साक्षरता नीति पर मुख्यमंत्री का जवाब बना सवाल, पहले आप बताएं कि आप 32 के समर्थक हैं या 60 40 के 2