Shakeel Ahmed khan bihar

Bihar Politics: कांग्रेस के मुस्लिम विधायक का अनोखा अंदाज, संस्कृत में ली विधानसभा सदस्य की शपथ

amirtnk
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

बिहार विधानसभा चुनाव खत्म होने के बाद एक बार फिर नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री चुने गए हैं नीतीश कुमार ने बीते दिनों मुख्यमंत्री पद की शपथ ले चुके हैं उनके साथ कैबिनेट के मंत्रियों ने भी शपथ ग्रहण कर चुके हैं लेकिन विधायकों का शपथ ग्रहण नहीं हो पाया था ऐसे में विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर और प्रोटेम स्पीकर जीतन राम मांझी को नियुक्त करके विधानसभा के निर्वाचित सदस्यों को शपथ दिलाई जा रही है

Advertisement

Also Read: भारत की पहली निजी ट्रेन का परिचालन हुआ बंद, सफर के लिए नहीं मिल रहे थे यात्री

बिहार विधानसभा का शीतकालीन सत्र 23 नवंबर से लेकर 27 नवंबर तक बुलाया गया है जिसमें पहले 2 दिन विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों से चुनकर आए विधायकों को शपथ दिलाई जाएगी वही 26 नवंबर को राज्यपाल फागू चौहान विधान सभा और विधान परिषद के सदस्यों को संबोधित करेंगे.

विधानसभा के पहले दिन जब शपथ ग्रहण चल रहा था इस बीच एम आई एम के विधायक अख्तरुल इमान ने शपथ ग्रहण के दौरान हिंदुस्तान शब्द पर आपत्ति जताते हुए भारत शब्द के साथ अख्तरुल इमान ने शपथ ली वही इन सब के बीच कांग्रेस के कदमा से विधायक शकील अहमद ने सदन के भीतर शपथ ग्रहण संस्कृत भाषा में ली एक मुस्लिम विधायक होने के कारण शकील अहमद का संस्कृत में शपथ लेना सबको चौका गया.

Also Read: देवेंद्र फडणवीस ने कहा कराची 1 दिन होगा भारत का हिस्सा, संजय राउत का पलटवार- पहले PAK से कश्मीर लाएं

शपथ लेने के बाद शकील अहमद जब बाहर निकले तो उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि भारत विविधताओं का देश है और यहां सभी भाषा बोली जाती है और हम सब की संस्कृति एक समान हैं जबकि संस्कृत भी भारत की भाषा है और मैंने इसलिए संस्कृत में शपथ ली वही एम आई एम के विधायक अख्तरुल इमान के द्वारा हिंदुस्तान शब्द पर जताई गई आपत्ति को लेकर कांग्रेस के विधायक ने कहा कि जिस प्रकार से वे सदन के भीतर आपत्ति जता रहे थे वह बेहद ही गलत था इससे पूर्व भी राष्ट्रीय जनता दल के टिकट पर जीत का अख्तरुल इमान विधानसभा पहुंच चुके हैं उस समय भी उन्होंने शपथ ली थी लेकिन उस समय उन्होंने हिंदुस्तान शब्द पर आपत्ति नहीं जताई थी फिर वह ऐसा क्यों कर रहे हैं पहला शपथ ग्रहण उन्हें याद करना चाहिए

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches