Skip to content
yadav tejashwi
Advertisement

तेजस्वी यादव ने नीतीश के मंत्री पर लगाए गंभीर आरोप कहा, सरकार में मंत्री और आम आदमी के लिए अलग-अलग कानून

amirtnk

राष्ट्रीय जनता दल के नेता और बिहार विधान सभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार के मंत्री रामसूरत राय के भाई हंसलाल राय के स्कूल से शराब बरामदगी के मामले में एक नया खुलासा किया है. तेजस्वी यादव ने इस मामले को लेकर पुलिस की डायरी को मीडिया के सामने सार्वजनिक किया है.

तेजस्वी यादव ने बुधवार की सुबह 9 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि पुलिस डायरी में यह साफ कहा गया है कि मंत्री रामसूरत राय के भाई और उनके भगिना पर भी केस किया गया है. लेकिन केस करने के 5 महीने बाद भी उन्हें गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया यह सबसे बड़ा सवाल है. तेजस्वी यादव ने कहा कि यदि 1 अप्रैल तक मंत्री के भाई और भगिना को इस मामले में गिरफ्तार नहीं किया गया तो सीएम आवास में भी एक शराब का ठेका खोल लिया जाए. इसके साथ ही सारे मंत्री के घर में एक-एक ठेका खुलवा दें फिर उनके द्वारा की गई शराबबंदी सफल हो जाएगी.

Also Read: बंगाल चुनाव में प्रचार करने से पहले “छोटे लालू” पर हुआ हमला, BJP समर्थकों पर मारपीट का आरोप

आगे तेजस्वी ने कहा कि मंत्री ने सब को गुमराह करने का काम किया है. मंत्री के भाई का ही स्कूल है मेरे पास पुलिस डायरी है. डायरी में स्पष्ट लिखा है कि परिसर के मालिक मंत्री के भाई हंसलाल राय हैं. इसके अलावा जो पिकअप पकड़ा गया है वह भी उन्हीं का है. तेजस्वी ने कहा की सीएम नीतीश कुमार की यह कैसी दोहरी नीति है जो मंत्री के लिए अलग और आम आदमी के लिए अलग कानून है.

तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार को ओपन चैलेंज करते हुए कहा कि 1 सप्ताह के अंदर यदि मंत्री के भाई और भगिना को गिरफ्तार नहीं किया गया तो राजद सहित पूरा महागठबंधन मुख्यमंत्री आवास का घेराव करेगा. इसके साथ ही तेजस्वी यादव ने बिहार के लोगों से अपील की है की अगर मंत्री के भाई के परिसर में थाना नहीं खोला गया तो वैसे लोग सीएम पर केस करें जिनकी संपत्ति शराबबंदी कानून के तहत की गई है. बता दें, कि तेजस्वी यादव ने मंगलवार को बिहार विधानसभा में मंत्री रामसूरत राय की तरफ से खानदान को लेकर दिए गए बयान पर कहा कि मैं वैसे बातें नहीं करता लेकिन यह तो सीएम और डिप्टी सीएम को सोचना चाहिए कि एक मंत्री विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष के खानदान को चुनौती देते रहे हैं और वह उन बातों को सुनते रहे.

Leave a Reply