Skip to content
online exam

ऑनलाइन परीक्षा लेने पर विचार कर रहा है BBMKU विश्वविद्यालय, सिंडिकेट की बैठक में हो सकता है बड़ा फैसला

amarsid

झारखंड में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच बीबीएमकेयू विश्वविद्यालय (BBMKU) ऑनलाइन परीक्षा लेने पर विचार कर रहा है. इसे लेकर सिंडिकेट की बैठक में बड़ा फैसला लिया जा सकता है. कोरोना के कारण विश्वविद्यालय सहित कॉलेजों की पढ़ाई पूरी तरह से ठप है. सिलेबस को पूरा करने के लिए ऑनलाइन कक्षाएं चलाई जा रही हैं. आंतरिक परीक्षाएं पूरी हो चुकी हैं लेकिन अब विश्वविद्यालय मुख्य परीक्षा को लेकर काफी सक्रिय है और परीक्षा ऑनलाइन होगी या ऑफलाइन इस पर जल्द ही फैसला आ सकता है.

Advertisement

झारखंड में बढ़ते संक्रमण के कारण राज्य सरकार के द्वारा विगत 22 अप्रैल से स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह की घोषणा की गई है जिसे मिनी लॉक डाउन भी कहा जा रहा है. स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह शुरू होने के बाद संक्रमितो की संख्या में कमी आई है. लेकिन राज्य सरकार ने 16 मई से 27 मई तक कई और पाबंदिया लगा कर संक्रमण रोकने की पूरी कोशिश कर रही है. जिसके बाद यूनिवर्सिटी ने गर्मी की छुट्टी कर दी है. गर्मी की छुट्टी खत्म होने के बाद विश्वविद्यालय परिक्षाए आयोजित कर सकती है.

सोमवार 17 मई को बिनोद बिहारी महतो कोयलांचल विश्वविद्यालय के सिंडिकेट की बैठक आयोजित की गई है इसमें ऑनलाइन परीक्षा आयोजन पर विचार विमर्श किया जाना है. फिलहाल परीक्षा का जो स्वरूप संभावित है उसके तहत मोबाइल ऐप को प्राथमिकता दी जा रही है. इस ऐप को सभी विद्यार्थियों को अपने स्मार्टफोन में डाउनलोड करना होगा निर्धारित तिथि और समय पर इस ऐप में प्रश्न पत्र दिया जाएगा. विद्यार्थियों को घर बैठे ही उत्तर पुस्तिका उपलब्ध कराई जाएगी. इसी उत्तर पुस्तिका में उन्हें सभी प्रश्नों के उत्तर लिखकर उसे ऐप पर अपलोड करना होगा निर्धारित समय में अपलोड की गई उत्तर पुस्तिका ही मान्य होगी वही बिना स्मार्टफोन वाले विद्यार्थियों के लिए अलग से परीक्षा आयोजित की जाएगी.

Also Read: राज्य में यात्रा करने और दुसरे राज्य जाने के लिए ऑनलाइन पोर्टल से आवेदन कर पाए ई-पास

विश्वविद्यालय के द्वारा ऑनलाइन परीक्षा लेने पर जल्द ही फैसला लिया जा सकता है. सिंडिकेट की बैठक में इसे मंजूरी भी दिया जा सकता है. यदि सिंडिकेट की बैठक में इस तरह से परीक्षा आयोजित करने पर सहमति बनती है तो जून में परीक्षाएं आयोजित की जा सकती है. इस मामले को लेकर कुलपति डॉ अंजनी कुमार श्रीवास्तव सहमत है लेकिन इस पर अंतिम मुहर सिंडिकेट की बैठक लगनी बाकी है. 

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches