jama-masjid-during-lockdown

#शबे_बारात: लॉकडाउन का पालन करें भारत के सभी मुस्लमान – दारुल उलूम देवबंद

Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on reddit

शबे बारात क्या है?

शब का अर्थ होता है “रात” और बारात का अर्थ होता है “बरी” होना , अर्थात “बरी होने की रात” या “माफी की रात”। इस्लामी कैलंडर के आठवें महीने की 15वीं रात को मुसलमान हर साल ‘शब-ए-बारात’ मनाते हैं।

अरब देशों में इसे “लैलतुल बराह” या “लैलतुन निसफे मीन शाबान” के नाम से जाना जाता है , यह मुसलमानों की वर्ष की 4 मुकद्दस रातों में से एक है जिसमें पहली “आशूरा की रात” दूसरी “शब-ए-मेराज”, “तीसरी शब-ए-बारात” और चौथी “शब-ए-कद्र” होती है।

#शबे_बारात: लॉकडाउन का पालन करें भारत के सभी मुस्लमान - दारुल उलूम देवबंद 1

मुसलमानों का यह विश्वास है कि इस रात को अल्लाह से माफी माँग कर वह अपने जिन्दगी में किए गुनाहों से बरी हो जाता है। मुसलमान इस सारी रात इबादत करके ख़ुदा से अपनी ग़लतियों और गुनाहों के लिए माफ़ी मांगते हैं। और कब्रिस्तान जाकर कब्रों और कब्रिस्तान की साफ सफाई करते हैं , मस्जिदों में रोशनी करते हैं , गरीबों को दान करते हैं और अपने से दूर हो चुके लोगों की कब्रों पर फातिहा पढ़कर उनकी मगफिरत के लिए अल्लाह से दुआ करते हैं।

वहीं, दूसरी ओर मुसलमान औरतें घरों में नमाज पढ़कर, कुरान की तिलावत करके अल्लाह से दुआएं मांगती हैं और अपने गुनाहों से तौबा करती हैं। अगले दिन मुसलमान रोज़ा भी रखता है , यद्धपि यह फर्ज़ नहीं होता।

मुसलमानों के लिए यह मुबारक रात रमज़ान के महीने के 15 दिन पहले आती है और इसी रात के बाद मुसलमान रमज़ान कि तैय्यारियाँ शुरू कर देता है। अपनी कमाई और संपत्ती पर लगने वाले ज़कात की गणना करने लगता है।

#शबे_बारात: लॉकडाउन का पालन करें भारत के सभी मुस्लमान - दारुल उलूम देवबंद 2
Appeal to All Muslim: Darul Uloom Deoband

मुस्लिम संगठनों नें घरों में रहकर इबादत करने की अपील

वर्तमान समय में कोरोना वायरस के वजह से पैदा हुई स्थितियों में पूरे देश में चल रहे लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंस को देखते हुए सभी मुस्लिम संगठन ने अपील की है कि शब-ए-बारात के अवसर पर अपने घरों में रहकर ही इबादत करें और लाकडाउन के संदर्भ में सरकार और प्रशासन की एडवाईज़री का पूरी तरह पालन करें और मस्जिद तथा कब्रिस्तान ना जाकर घर में ही इबादत करें और अपने गुनाहों के लिए अल्लाह से माफी माँगें।

दुवाएँ दूरी की मोहताज नहीं होतीं

दुवाएँ दूरी की मोहताज नहीं होतीं , यह जब ज़मीन से सात आसमान पार पहुँच सकती हैं तो कहीं से भी पहुँच सकती हैं। इस मुश्किल दौर में इस बार घर से ही दुआ करिए ।

सतर्क रहिए , खुद को नियंत्रित रखिए , लाकडाऊन का पुर्णतः पालन करिए ..

Leave a Reply

In The News

क्या आपको भी नहीं मिल रहे जनधन खाते में 500 रूपये, बंद खाते को ऐसे करे एक्टिव

भारत सरकार महिलाओं के जन धन खाते में हर महीने 500 रूपये भेज रही है, जिसको आप अपने नजदीकी CSC…

उत्तराखंड भाजपा के मंत्री में कोरोना की पुष्टि, CM के साथ कैबिनेट बैठक में रहे थे मौजूद

उत्तराखंड में कोरोना तेजी से पैर पसार रहा है. राज्य के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.…

मनोज तिवारी को दिल्ली पुलिस ने लिया हिरासत में, केजरीवाल की खिलाफ कर रहे थे प्रदर्शन

दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी समेत कई भाजपा नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया है। दिल्ली भाजपा प्रदेश…

पीएमओ ने PM Cares फंड के विवरण का खुलासा करने से किया इनकार

PM Care फंड RTI एक्ट के तहत सार्वजनिक प्राधिकरण नहीं है: पीएमओ News Desk: भारत में कोरोना वायरस महामारी के…

जारी हुई अनलॉक-1 की गाइडलाइंस, जानें किसमें रहेगी छूट और किसमें पाबंदी

लॉकडाउन के चौथे चरण के ख़त्म होने से एक दिन पहले 30 मई को केंद्र सरकार ने अनलॉक-1 के लिए…

31 मई को खत्म हो रहा लॉकडाउन 4.0, 1 जून से मिल सकती हैं ये सारी छूट

लॉकडाउन 4.0 पूरा होने वाला है। 31 मई को मन की बात कार्यक्रम है, उसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लॉकडाउन 5.0…

Get notified Subscribe To The News Khazana

Follow Us

Popular Topics

Trending

Related News

जोहार 😊

Popular Searches