Skip to content
Advertisement

Koderma: झारखंड के अभ्रक को कोई पहचान दिलाने की दिशा में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने दिखाई हरी झंडी

Koderma: झारखंड के अभ्रक को नई पहचान दिलाने की दिशा में कोडरमा जिले में ढिबरा डंप में फिर से काम की शुरुआत की गई हैl खरियानी जोहार यात्रा को लेकर मंगलवार कोडरमा पहुंचे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने हरी झंडी दिखाकर ढीबरा में कार्य की शुरुआत करवाईl

सीएम ने कहा देश में सबसे उम्दा अभ्रक का उत्पादन झारखंड में होता है l मगर वर्षों से इस पर ध्यान नहीं दिया गया l राज्य सरकार बहुत जल्द इस संदर्भ में कानून लाने जा रही हैl इस कड़ी के पहले चरण में अभ्रक की खोई पहचान को पुनर्जीवित करने का प्रयास हुआ हैl

Koderma: अभ्रक उद्योग में काम करने वाले मजदूरों का होता रहा शोषण, पूर्व की सरकारों ने मजदूरों की कोई सुध नहीं ली

उन्होंने कहा कि इससे एक ओर जहां वर्षों से गैरकानूनी तरीके से चले आ रहे अभ्रक उद्योग पर विराम लगेगा ,वही लाखों श्रमिकों का शोषण बंद होगा तथा व्यवस्थित रोजगार का सृजन होगा से संबंधित सभी कार्य सहकारी समितियों के सदस्यों द्वारा किया जाएगा फिर जिला खनन कार्यालय एवं जिला प्रशासन द्वारा चिन्हित वाहन में ही लोड किया जाएगा.

मुख्यमंत्री ने कहा हमारा कोडरमा अभ्रक नगरी है मगर अभ्रक उद्योग में काम करने वाले मजदूरों का हमेशा शोषण होता रहा। पूर्व की किसी भी सरकार ने इनकी सुध नहीं ली। अब जेएसएमडीसी द्वारा ढिबरा चुनने वाली सहकारी समितियों के सदस्यों को मिलेगी मदद। इससे लोगों को व्यवस्थित रूप से रोजगार भी मिलेगा।

Also Read: Koderma: खतियानधारियों को ही मिलेगी तृतीय और चतुर्थ वर्ग की नौकरी, भाजपा ने पिछड़ा बनाया झारखंडी करेगा विकास

Story By: DIVYA KUMARI

Advertisement
Koderma: झारखंड के अभ्रक को कोई पहचान दिलाने की दिशा में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने दिखाई हरी झंडी 1