Skip to content
Advertisement

CM Hemant Soren: शेर का बच्चा हूँ…. 1932 हमारा था, रहेगा और पहले भी था- सदन नेता विपक्ष पर खूब बरसे, पढ़े और क्या कुछ कहा

Divya Kumari

CM Hemant Soren: झारखंड विधानसभा के अंतिम दिन मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने विपक्ष के उन तमाम मुद्दों पर जवाब दिया जिसे लेकर लगातार भाजपा और आजसू के नेता उनपर दबाव बनाने की कोशिश कर रहे थे. हेमंत सोरेन ने गुरुवार को विधानसभा में विपक्ष की चुनौती को स्वीकार करते हुए 1932 के खतियान समेत तमाम मुद्दों पर अपने अंदाज में जवाब दिया।

विधानसभा में जोरदार हंगामे के बीच सदन को संबोधित करते हुए उन्होंने स्पष्ट तौर पर कहा कि 1932 हमारा मुद्दा था, रहेगा और पहले तो रहा ही है। सीएम हेमंत ने नियोजन नीति से 1932 के खतियान को हटाने के निर्णय पर कहा कि शेर का बच्चा हूं, दो कदम पीछे आया हूं ताकि लंबी छलांग लगा सकूं। भाजपा पर हमला जारी रखते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन लोगों ने ना खाऊंगा और न खाने दूंगा का नारा दिया था, वही लोग अब ना काम कर रहे हैं और ना करने दे रहे हैं।

CM Hemant Soren: 1932 पर भाजपा ढ़ोंग करती है और उनके सदस्य उसे रद्द करवाने के लिए हाईकोर्ट जाता है

मुख्यमंत्री ने कहा कि ये 1932 के आधार पर नियोजन नीति की बात कर रहे हैं। लेकिन भाजपा का सदस्य 1932 के विरोध में हाई कोर्ट जाता है। भाजपा पहले बताए कि ये 1932 के समर्थक हैं या 1985 के। देश विषम दौड़ से गुजर रहा है। इन लोगों ने कई पोस्टर लगाए जिसमें देश के प्रधानमंत्री, गृह मंत्री का फोटो लगा है। आजादी के बाद पहली बार इतनी निर्लज्ज व्यवस्था दिख रही है। 1932 है, रहेगा और हमारे पूर्वज तो इसी के साथ थे। यह वह शेर का बच्चा है जो लंबी छलांग के लिए दो कदम पीछे आया है।

Also Read: Jharkhand Para Teacher vacancy 2023: पारा शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया शुरू, 50 हजार पदों पर होगी नियुक्तियां

सीएम ने कहा कि 100 प्रतिशत झारखंडियों की नौकरी की बात पर यही लोग विरोध करते हैं। विपक्ष को अपनी बातों पर कायम रहना होगा। वर्तमान सरकार किसी के साथ भेदभाव नहीं करती है। केंद्र ने राज्य सरकारों को भिखमंगा बनाकर रख दिया है। महंगाई में लगातार वृद्धि हो रही हों। डीजल पेट्रोल के दाम आसमान छू रहे हैं। भाजपा लोगों को हवाई जहाज पर चढ़ाने की बात करते थे लेकिन उसे बेच दिया। रेलवे को बेच दिया। किसान सम्मान निधि को 75 हजार करोड़ से घटाकर 65 हजार करोड़ कर दिया।

देश का पैसा चंद लोगों की जेब मे चला गया है। जब विपक्ष के लोग इसका विरोध करते हैं, हम बकाया पैसा की मांग करते हैं तो हमारे पीछे सीबीआइ, ईडी को लगा दिया जाता है। कोयला में 1 लाख 12 हजार करोड़ भारत सरकार के पास बकाया है। अमृतकाल में देश के चंद लोग अमृत पी रहे है जबकि अधिकांश आबादी आज भी गंदी नाली का पानी पी रहे हैं।

आजादी के बाद सबसे ज्यादा बेरोजगारी इस कार्यकाल में हुआ है। भाजपा के कार्यकाल में 12000 से अधिक व्यापारियों ने आत्महत्या की है। दूसरी ओर केंद्र सरकार ने अपने व्यापारी साथियों के 10 लाख करोड़ से अधिक का ऋण माफ कर दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बहुत पहले एक कहावत सुना था ना खाऊंगा न खाने दूंगा लेकिन आज देश में स्थिति यह है कि न काम करूंगा न काम दूंगा। झारखंड में अपने कारनामे से डबल से सिंगल इंजन पर आ गए हैं। वह दिन दूर नहीं जब भाजपा देश से ही समाप्त हो जाएगी।

CM Hemant Soren: JPSC की नियमावली से लेकर बच्चों को विदेश में पढ़ाने तक कई महत्वपूर्ण काम हमारी सरकार कर रही है

सीएम ने कहा कि भाजपा की सरकार में जेपीएससी का क्या हाल था देखा ही है। हमारी सरकार ने रिकार्ड परीक्षाएं ली और नौकरी दी। बच्चों को विदेशों में पढ़ने की व्यवस्था कर रहे हैं। इसके लिए 100 प्रतिशत छात्रवृति दे रही है। देश मे झारखंड एकमात्र राज्य है जहां यह योजना लागू है। दूसरे राज्य इस योजना की नकल कर रहे हैं।

Also Read: Jharkhand Vacancy: रोजगार देने की दिशा में बढ़ी हेमंत सरकार, बड़े पैमाने पर निकाली जा रही नियुक्ति, अबतक 6700 पदों पर विज्ञापन जारी

23 वर्षों में राजधानी में एक भी फ्लाई ओवर नहीं बना था। हमारी सरकार ने कई जगहों पर फ्लाईओवर का काम शुरू किया है और बहुत जल्द यह काम पूरा होगा और जनता को समर्पित किया जाएगा। विधायकों को भी पांच वर्ष से ज्यादा के लिए लोन नहीं मिलता। हमने शिक्षा ऋण 4 प्रतिशत व्याज पर ऋण की व्यवस्था कराई।

सुदेश महतो पर टिप्पणी करते हुए सीएम ने कहा कि स्थानीयता पर हमारे बड़े भाई को बहुत चिंता है। यह चिंता है या कुछ और है। 100 प्रतिशत स्थानीय लोगों को नौकरी मिले इसको लेकर नीति बनाई थी क्या हुआ। 1932 कि कोशिश जारी है। विपक्ष में सभी बाहरी नहीं हैं कुछ मूलवासी और आदिवासी भी हैं। मेरा यह मानना है कि मुंडा, महतो मरांडी झारखंड के हितैषी हो जाएंगे यह कहना उचित नहीं है।

Advertisement
CM Hemant Soren: शेर का बच्चा हूँ…. 1932 हमारा था, रहेगा और पहले भी था- सदन नेता विपक्ष पर खूब बरसे, पढ़े और क्या कुछ कहा 1