Skip to content

Aapki Yojna Aapki Sarkar Aapke Dwar: CM हेमंत सोरेन ने चाईबासा को दिया 670 करोड़ की योजनाओं की सौगात, कई योजनओं का किया शिलान्यास एवं उद्घाटन

Shah Ahmad

आपकी योजना-आपकी-सरकार-आपके द्वार (Aapki Yojna Aapki Sarkar Aapke Dwar) कार्यक्रम का आयोजन पूरे राज्य में किया जा रहा है। कार्यक्रम का कैसे संचालन किया जा रहा है, उसे देखने और जानकारी लेने आपके बीच समय-समय पर आ रहा हूं। ताकि जान सकूं कि योजना का लाभ आपको मिल रहा या नहीं। गत वर्ष भी हमने सरकार आपके द्वार कार्यक्रम शुरू किया था। उसी तरह इस वर्ष भी दो चरणों में कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। पिछले वर्ष के शिविर में जो आवेदन हमें प्राप्त हुए थे, उसका लगभग निदान कर दिया गया है। अबकी बार शिविर में विभिन्न योजनाओं से आपको जोड़ने के लिए योजनाओं को आपके दरवाजे तक भेज रहें हैं। राज्यवासी इसका लाभ लें। ये बातें मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने कही।

Advertisement

मुख्यमंत्री चाईबासा के गोइलकेरा में आयोजित “आपकी योजना आपकी सरकार आपके द्वार” कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा जल्द गोइलकेरा हाट बाजार की सूरत बदलने का कार्य होगा। यहां लोगों को मूलभूत सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

लोगों के अनुरूप योजनाओं का सृजन:

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की बेटियों को बाहर जाने की जरूरत नहीं है। पलायन करने की आवश्यकता नहीं। आप शिविर में आएं और योजना का लाभ लें। यहां के लोगों के अनुरूप योजनाओं का सृजन किया गया है। खेती बारी से लेकर स्वरोजगार तक की योजनाएं संचालित की जा रही है। हमें अपने पैरों पर खड़ा होने की जरूरत है। कोरोना काल की विकट परिस्थितियों को हमलोगाें ने पार किया। राज्य की सखी मंडल की बहनों ने जरुरतमंदों के बीच भोजन का वितरण किया। किसी की मौत भूख से नहीं हुई।

Also Read: सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में BJP और AJSU के नेता इस कार्यक्रम में नहीं होते शामिल ! आखिर क्यूँ?

अब झारखण्ड सुखाड़ की स्थिति में चला गया। सुखाड़ को देखते हुए योजना बनाकर पदाधिकारियों को आपके द्वार भेजने का कार्य कर रहें हैं। पुराने समय से चले आ रहे परंपरा को सहेजने की जरूरत है। हमें आने वाली पीढ़ी को सशक्त करने की जरूरत है। पशुपालन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। क्यों नहीं हम गाय पाले और दूध निकाले, क्यों नहीं मुर्गी पालन कर अंडा और मांस बिक्री करें। पशुधन विकास योजना से जुड़कर यह कार्य किया जा सकता है। स्वरोजगार के दरवाजे भी खुले हैं। रोजगार सृजन योजना के जरिए युवा विभिन्न तरह के व्यवसाय कर सकते हैं। हर पंचायत में योजना का शुभारंभ होगा। समय पर पेंशन और समय पर मैनरेगा के श्रमिकों को होगा पारिश्रमिक का भुगतान।

बच्चियों को स्कूल आना होगा और पढ़ाई करनी होगी:

मुख्यमंत्री ने कहा राज्य के सभी जरूरतमंद को पेंशन देने की व्यवस्था आपकी सरकार ने की। देश का यह पहला राज्य है, जहां यूनिवर्सल पेंशन योजना लागू है। किशोरियों की पढ़ाई -लिखाई में आर्थिक मदद के लिए सावित्रीबाई फुले किशोरी समृद्धि योजना का शुभारंभ किया है। किशोरियों को योजना का लाभ मिलेगा। लेकिन योजना का लाभ लेने के लिए बच्चियों को स्कूल आना होगा और पढ़ाई करनी होगी। हर प्रखंड में डिग्री कॉलेज खोलने का संकल्प सरकार ने ले रखा है। इसमें थोड़ा समय लगेगा। सरकार ने कानून बनाया और आदिवासियों, पिछड़ों और अल्पसंख्यक वर्ग के प्रतिभाशाली बच्चों के लिए विदेश में निःशुल्क उच्च शिक्षा की व्यवस्था की गई है।

ड्रैगन फ्रूट के लिए विशेष तैयारी:

मुख्यमंत्री ने कहा कि खूंटी में ड्रैगन फ्रूट की खेती बड़े पैमाने पर हो रही है। झारखण्ड से बाहर जाने के बाद ड्रेगन फूड के मूल्य की बढ़ोत्तरी हो जाती है। ड्रेगन फ्रूट को और विस्तार देने के लिए विशेष तैयारी सरकार कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा जिसने राज्य लिया उन्हें सम्मान मिल सके, इसके लिए सरकार तैयारी कर रही है। स्थानीय लोगों को 75 प्रतिशत रोजगार देने का कानून बना चुके हैं। जल्द शिविर लगाकर इस कार्य को गति दी जाएगी। वनोपज के लिए बड़े पैमाने पर नियमावली बनाई है। एम एस पी तय करेंगे ताकि वनोपज को बेहतर मूल्य प्राप्त हो सके।

Also Read: 1000 करोड़ से ज्यादा खर्च कर राजधानी के सड़कों को बेहतर बनाएगी हेमंत सरकार

इस अवसर पर मंत्री सत्यानंद भोक्ता, मंत्री जोबा माझी, सांसद चाईबासा गीता कोड़ा, विधायक दीपक बिरुवा, विधायक निरल पूर्ति, विधायक दशरथ गागराई, विधायक सुखराम उरांव, विधायक सबिता महतो, विधायक सोनाराम सिंकु, आयुक्त चाईबासा मनोज कुमार, उपायुक्त चाईबासा अन्यय मित्तल, आरक्षी अधीक्षक चाईबासा, उप विकास आयुक्त चाईबासा एवं अन्य उपस्थित थे।

Leave a Reply