epass jharkhand

Epass Jharkhand: लॉकडाउन में यात्रा के लिए पास लेना जरूरी लेकिन पोर्टल हुआ डाउन, जानिए ऐसा क्यों और कैसे हुआ

Arti Agarwal
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

Epass Jharkhand: झारखंड सरकार के द्वारा कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए राज्य में 16 मई से लेकर 27 मई तक स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह यानी मिनी लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने के लिए कई कड़े कदम उठाए गए हैं. राज्य सरकार के द्वारा इस अवधि के दौरान कई सख्त नियम लागू किए गए हैं जिसमें ई-पास का भी प्रावधान किया गया है.

Advertisement

सरकार की तरफ से जारी किए गए आदेश में यह साफ कहा गया है कि लोग बेवजह सड़कों पर निकलते हैं जिससे भीड़ इकट्ठा होती है जरूरत के अनुसार ही घरों से बाहर निकले अन्यथा घरों में खुद को सुरक्षित रखें. इसी को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने जिले के भीतर कहीं आने-जाने या एक जिले से दूसरे जिले में जाने के लिए, साथ ही राज्य से बाहर या दूसरे राज्य से झारखंड वापस आने के लिए ई-पास बनाने की बात कही थी इसे लेकर सरकार की तरफ से एक ऑनलाइन पोर्टल को भी लांच किया गया है.

Also Read: सड़क पर उतरे मंत्री सत्यानंद भोक्ता, कोविड टीकाकरण को लेकर चलाया जागरूकता अभियान

16 मई से अपनी आवाजाही के लिए लोगों ने ई-पास लेने के लिए जब epaas.jharkhand.nic.in पर जाकर पास बनवाने की कोशिश कर रहे हैं तो लोगों के सामने कई समस्याएं आ रही हैं. इन समस्याओं में सबसे मुख्य है कि यह वेबसाइट खुल नहीं रहा है इसका कारण अत्यधिक लोगों के द्वारा एक ही समय में वेबसाइट को खोलने का प्रयास किया जाना हो सकता है. ई-पास बनवाने की कोशिश कर रहे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. पास नहीं बनने के कारण लोगों को एक स्थान से दूसरे स्थान जाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ रही है.

हालांकि, परिवहन विभाग के द्वारा जारी किए गए प्रेस रिलीज में यह कहा गया है कि शव यात्रा में शामिल लोगों को ई-पास की आवश्यकता नहीं है, साथ ही चिकित्सा उद्देश्य तथा इससे संबंधित कार्यों जैसे चिकित्सा जांच, शारीरिक जांच, वैक्सीनेशन, मरीजों को हॉस्पिटल जाने आने तथा दवा लेने के लिए ई-पास की आवश्यकता नहीं है. 

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches