हूल दिवस झारखंड के लिए गौरवशाली पल, लेकिन मुख्य उद्देश्य आज भी अधूरा, जानिए हूल दिवस का पूरा इतिहास

Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on reddit

आदिवासी समाज में अब तक जितने भी जनक्रांति हुई है उनका मुख्य उद्देश्य जल, जंगल व जमीन की रक्षा से सीधा जुड़ा है. संताल हूल भारत से अंग्रेजों को भगाने के लिए प्रथम जनक्रांति थी या यूँ कहे की भारत में पहली स्वतंत्रता की आवाज़ कही से उठी तो वो हूल क्रांति ही थी.

30 जून 1855 में हूल क्रांति का आगाज हुआ. संताल परगना के भोगनाडीह में सिदो-कान्हू मुर्मू की अगुवाई में विशाल रैली हुई. अंग्रजो के खिलाफ हुई रैली से जल, जंगल व जमीन को छोड़ने के नारे की गूंज उठी. इसे संताल हूल व हूल क्रांति दिवस के नाम से जानते हैं.

हूल क्रांति का मूल उद्देश्य जल, जंगल व जमीन की रक्षा करना था. सिदो-कान्हू, चांद-भैरव समेत अनगिनत लोगों ने इसके रक्षार्थ अपने प्राणों की आहुति दी, लेकिन वर्तमान समय का जो परिदृश्य है. वह अब भी पहले के जैसा है. इसमें कोई खासा बदलाव देखने को नहीं मिला है.

Also Read: सिदो-कान्हो के वंशज के हत्या को लेकर भाजपा नेताओ ने राज्यपाल से की मुलाकात, सीबीआई से जांच कराने की मांग

अभी भी आदिवासियों को उनकी जमीन से बेदखल करने की कोशिश जारी है. घर से बेघर होने के भी कई मामले सामने आ चुके हैं. हूल क्रांति दिवस अभी भी लोगों में ऊर्जा भरने का काम करता है, लेकिन हूल क्रांति से सींचा हुआ कानून केवल फाइलों की शोभा बढ़ा रहा है. एसपीटी एक्ट को सही रूप में लागू करने की जरूरत है. ताकि आदिवासियों को उनका सही अधिकार मिल सके.

आज भी नहीं मिल पाई है सही पहचान:

1855 की इस जनक्रांति को पहले स्वतंत्रता संग्राम के तौर पर सही पहचान आज तक नहीं मिल पाई। देश तो दूर झारखंड के स्कूली पाठ्यक्रम में भी इसे सिर्फ आदिवासी विद्रोह ही पढ़ाया जाता है। मनमाना लगान न दे पाने वाले आदिवासियों की जमीन हड़पने वाले अंग्रेजों के स्थायी बंदोबस्त कानून के खिलाफ ये पहला संगठित जनविद्रोह था।

Also Read: झारखंड में फिर एक बार होगा अँधेरा ! 18 घंटे हो सकती है बिजली की कटौती

2017 में तत्कालीन सरकार ने 2 एकड़ से कम भूमि वालों को भूमिहीन मानते हुए जमीन की बंदोबस्ती का सर्कुलर तो निकाला, मगर आज तक सरकार यह आंकड़ा ही नहीं जुटा पाई कि दरअसल राज्य में भूमिहीन कितने हैं। मौजूदा गठबंधन सरकार के प्रमुख घटक झामुमो ने भी विस चुनाव में वादा तो किया, लेकिन अबतक कुछ नहीं किया।

इन सब के बीच एक सवाल चीख-चीख के हुक्मरानों से पूछ रहा है की आखिर हमें हमारा हक़ कब मिलेगा। जिस जल,जंगल और जमीन को बचाने के लिए झारखंड के वीर सपूतों ने अपनी प्राणो को निछावर कर दिया उन्हें सम्मना कब मिलेगा? झारखंड में सरकार आई और गई लेकिन जो उचित सम्मान मिलना चाहिए था वो आज भी नहीं मिल पाया है.

Leave a Reply

In The News

यूरिया खाद की कमी को दूर करे सरकार : संजय मेहता

यूरिया खाद की कमी को लेकर आप ने सरकार पर हमला बोला है। पार्टी के बरही विधानसभा प्रभारी एवं पूर्व…

सुदर्शन चैनल और उनके एंकर सुरेश पर बरियातू थाना में छात्रों द्वारा हुआ मुकदमा दर्ज

30 अगस्त को एमएसएफ के प्रदेश अध्यक्ष शाहबाज़ हुसैन एवं बरियातू और बड़ागयीं बस्ती के नौजवान द्वारा सुरेश चह्वाण ,…

30 सितंबर तक बढ़ा लॉकडाउन, मिल सकेंगी इन जगहों को छुट, परीक्षार्थियों के लिए खास इन्तेजाम

रांची: राज्य में बढ़ते COVID19 संकरण को देखते हुए राज्य सरकार ने शुक्रवार को लॉकडाउन की अवधि 30 सितंबर तक…

महागामा विधायक दीपिका सिंह कोरोना नेगेटिव, बाबा भोलेनाथ और शुभचिंतको को किया धन्यवाद

गोड्डा जिले के महागामा विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस की विधायक दीपिका पांडेय सिंह की दूसरी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई है.…

JAC 10वीं और 12वीं के सिलेबस में कर सकता है भारी कटौती, तैयार किया जा रहा है रिपोर्ट

पुरे देश में फैले कोरोना महामारी कि वजह से झारखंड के सरकारी विद्यालयों में पढने वाले बच्चों को काफी दिक्कतों…

कोडरमा के बीजेपी नेता की सड़क दुर्घटना में मौत, जिले में शोक की लहर

कोडरमा जिले के बीजेपी नेता सह उत्तरी छोटानागपुर पत्थर उद्योग संघ के पूर्व सचिव सुनील राम कि सड़क दुर्घटना में…

Get notified Subscribe To The News Khazana

Follow Us

Popular Topics

Trending

Related News

जोहार 😊

Popular Searches