Skip to content

बच्चियों के साथ छेड़खानी करना पड़ा महंगा, हेमंत की पुलिस ने 4 आरोपियों को धर दबोचा

News Desk

राजधानी रांची के ओरमांझी स्थित सदमा प्रोजेक्ट प्लस टू उच्च विद्यालय की छात्राओं से छेड़खानी करने के मामले में चार आरोपियों को रविवार की शाम गिरफ्तार कर लिया गया हैं। इन्हें ओरमांझी के विभिन्न इलाकों से पकड़ा गया। गिरफ्तार आरोपियों में मुजम्मिल अंसारी, फिरदौस अंसारी, जमील अंसारी और तौफीक अंसारी शामिल हैं। जबकि एक आरोपी सुहैल पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।

Advertisement

Also read: PAK vs SL Asia Cup 2022 Final: श्रीलंका ने पाकिस्तान को 23 रनों से दी करारी शिकस्त, श्रीलंका छठी बार एशिया कप पर जमाया कब्जा।

आरोपी तौफीक अंसारी एक प्रतिष्ठित स्कूल की 11वीं का छात्र है। शेष सभी आरोपी रंग-रोगन का काम करते हैं। पूछताछ में आरोपियों ने पुलिस के समक्ष अपना जुर्म स्वीकार किया है। पुलिस को जांच में पता चला है कि आरोपी अक्सर स्कूल की दीवार फांदकर घुस जाते थे। छात्राओं से छेड़खानी करते थे। रोक-टोक करने वालों को धमकी भी दिया करते थे। एसएसपी किशोर कौशल ने बताया कि पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है। इधर, मामले को लेकर ग्रामीणों में उबाल है। ग्रामीणों का कहना है कि छेड़खानी करने वाले आरोपियों को प्रशासन सजा दिलाए।

हेमंत की पुलिस ने कार्य योजना बना आरोपियों को धर दबोचा:

घटना की जानकारी मिलने के बाद एसएसपी ने एसआईटी बनाई थी। सिल्ली डीएसपी के नेतृत्व में गठित एसआईटी में इंस्पेक्टर व एसआई थे। एसआईटी ने स्कूल में लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाले। मोबाइल लोकेशन के आधार पर आरोपियों को दबोच लिया।

महीनों से छेड़छाड़ का शिकार हो रही थीं बच्चियां:

रांची के ओरमांझी थाना क्षेत्र में स्थित प्रोजेक्ट प्लस टू उच्च विद्यालय, सदमा की छात्राएं महीनों से छेड़खानी का शिकार हो रही थीं। लेकिन छेड़खानी करने वाले बदमाशों के खौफ से जुबान बंद रखी थी। इसकी जानकारी स्कूल प्रबंधन को भी थी, पर कार्रवाई नहीं की। शिक्षक दिवस पर जब छात्राओं को हथियार के बल पर उठाने और स्कूल के लिपिक को जान से मारने की धमकी दी गई तो स्कूल प्रबंधन ने पुलिस को जानकारी दी।

Also read: शहीदों और पूर्वजों के सपनों के अनुरूप झारखंड का कर रहे नव निर्माण–सीएम हेमंत सोरेन

विद्यालय प्रबंधन की दिखी लापरवाह, पहले नहीं दी जानकारी:

मामले में स्कूल प्रबंधन की लापरवाही भी सामने आई है। छात्राओं के साथ छेड़खानी हो रही थी, पर प्रबंधन ने पुलिस को सूचना नहीं दी। स्कूल में ही मामले को सुलझाने की कोशिश की। हल नहीं निकलने पर ग्रामीणों तक इसकी शिकायत पहुंची। मामला जब तूल पकड़ा तो शनिवार को ग्रामीणों ने आरोपियों पर प्राथमिकी दर्ज करवाई।

यह है पूरी घटना, आरोपी ने तान दिया था पिस्टल:

पांच सितंबर को स्कूल में शिक्षक दिवस कार्यक्रम के दौरान आरोपी स्कूल में घुस गए। छात्राओं से छेड़खानी करने लगे। स्कूल के लिपिक आशीष महतो ने आरोपियों को मना किया तो आरोपियों ने पिस्टल निकाल ली और उन्हें जान से मारने की धमकी दी। छात्राओं को उठा लेने की धमकी दी। लिपिक ने ओरमांझी थाना में प्राथमिकी दर्ज करायी है.

Leave a Reply