Skip to content

Jharkhand Governor: झारखंड छोड़ने से पहले रमेश बैस ने तीन विधेयक को दी मंजूरी, जाने कौन सा नियम अब राज्य में होगा लागू

shahahmadtnk

Jharkhand Governor: राज्यपाल रमेश बैस ने सोमवार को झारखंड विधानसभा से पारित तीन विधेयकों को मंजूरी दे दी है। देश के कई राज्यों के राज्यपाल को बदल दिया गया है, इनमें झारखंड के राज्यपाल का भी नाम शामिल है. उन्हें महाराष्ट्रा का नया राज्यपाल नियुक्त किया गया है. झारखंड छोड़ने से पहले रमेश बैस ने तीन महत्वपूर्ण विधेयक को अपनी मंजूरी दी है.

झारखंड नगर पालिका (संशोधन) विधेयक, 2022 के साथ ही 2022 के यूजीसी रेगुलेशन के तहत स्टैट्यूट (परिनियम) गठन और राज्य के निजी एवं सरकारी बीएड कॉलेजों में नामांकन और शुल्क निर्धारण के लिए परिनियम 2020 के गठन से संबंधित विधेयकों को राज्यपाल की स्वीकृति मिलने के बाद अब राज्य सरकार की ओर से अधिसूचना जारी कर एक्ट को लागू किया जाएगा।

Jharkhand Governor: अब आबादी के आधार पर मेयर पद का आरक्षण, विधेयक को मिली मंजूरी 

नगरपालिका (संशोधन) विधेयक में अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति, पिछड़े वर्ग के लिए रोटेशन सिद्धांत संबंधित प्रावधान को महापौर या अध्यक्ष पद के लिए हटा दिया गया है। अब संबंधित जाति की जनसंख्या के आधार पर क्षेत्र में महापौर व अध्यक्ष की सीटें निर्धारित की जाएंगी। इसके साथ ही रांची नगर निगम में मेयर का पद आदिवासी के लिए आरक्षित होगा। आदित्यपुर में भी मेयर पद एसटी जबकि धनबाद में एससी के लिए रिजर्व होगा।

Also Read: TATA Steel Recruitment 2023: TATA Steel ने इंजीनियर ट्रेनी के लिए निकाली बहाली, जानें आवेदन की पूरी डिटेल्स

विवि में शिक्षक भर्ती होगी शुरू राज्य के विश्वविद्यालयों में शिक्षकों और एकेडमिक स्टाफ की नियुक्ति के लिए स्टैट्यूट (परिनियम) गठन से संबंधित विधेयक को मंजूरी के बाद शिक्षक बहाली के लिए विश्वविद्यालय जेपीएससी को अधियाचना भेज सकेंगे।

बीएड कॉलेजों में जेसीईसीईबी से होगी प्रवेश परीक्षा निजी एवं सरकारी बीएड कॉलेजों में नामांकन और शुल्क से जुड़े विधेयक की मंजूरी के बाद अब राज्य के सभी बीएड कॉलेजों में दाखिले को जेसीईसीईबी द्वारा परीक्षा ली जाएगी।