Skip to content

झारखंड में सत्ताधारी दलों के बीच शुरू हुई बोर्ड निगम और 20 सूत्री कमिटी को लेकर माथापच्ची

Shah Ahmad

झारखंड की सत्ताधारी दल झारखंड मुक्ति मोर्चा कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल के नेताओं के बीच बोर्ड निगम और 20 सूत्री कमिटी का विस्तार करने के लिए माथापच्ची शुरू हो गई है सत्ताधारी गठबंधन दलों के बीच बोर्ड निगम और 20 सूत्री कमिटी सहित निगरानी समिति को लेकर सहमति बनाने की कोशिश शुरू हो गई है.

Advertisement

सरकार में शामिल झारखंड मुक्ति मोर्चा कांग्रेस और राजद के 20 पदों का बंटवारा होगा मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और कांग्रेस के झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह के बीच इस मुद्दे को लेकर बातचीत हुई है नेताओं के बीच सहमति बनी है कि बोर्ड निगम और 20 सूत्री में पदों के बंटवारे को लेकर उच्च स्तरीय कमेटी गठित की जाएगी यह कमेटी गठबंधन दलों के बीच बंटवारे का फार्मूला तैयार करेगी फॉर्मूला तैयार करने वाली कमेटी में गठबंधन दलों के वरिष्ठ नेता कमिटी में शामिल किए जाएंगे.

Also Read: झारखंड पुलिसकर्मियों को मिला नए साल का तोहफा, सप्ताह में मिलेगी एक दिन की छुट्टी

ऐसा कहा जा रहा है की कांग्रेस की तरफ से कमेटी में चार लोग शामिल किए जा सकते हैं जिला बार बटेगी 20 सूत्री कमिटी उपाध्यक्ष अलग-अलग दल से होंगे 20 सूत्री कमिटी का जिला भार बटवारा होगा गठबंधन दलों के बीच जनाधार के आधार पर जिस जिले का बंटवारा किया जाएगा जिला में अध्यक्ष प्रभारी मंत्री होंगे वहीं उपाध्यक्ष अलग-अलग दल से होंगे गठबंधन के अंदर 20 सूत्री कमिटी के बंटवारे में समन्वय स्थापित करने की कोशिश की जाएगी इसी फार्मूले पर निगरानी कमेटी का बंटवारा होगा.

Also Read: Bokaro: गोमिया नगर परिषद को विघटित करने से संबंधित प्रस्ताव को CM हेमंत सोरेन ने दी स्वीकृति

झारखंड में निगरानी समिति का गठन बाबूलाल मरांडी की सरकार में हुआ था जिसके बाद किसी भी सरकार ने निगरानी समिति का गठन नहीं किया अगर राज्य में जिला स्तर पर निगरानी समिति बनी तो इसमें भी सैकड़ों लोगों को जगह मिलेगी 20 सूत्री कमिटी में गठबंधन दल की बड़ी संख्या में आपने अपने लोगों को जगह दे सकते हैं प्रदेश से लेकर प्रखंड स्तर पर दो से ढाई हजार लोग 20 सूत्री कमिटी में शामिल किए जा सकते हैं प्रदेश स्तर पर मुख्यमंत्री 20 सूत्री के अध्यक्ष होते हैं वहीं वर्तमान में स्टीफन मरांडी को उपाध्यक्ष बनाया गया है प्रदेश कमेटी में राजनीतिक सामाजिक कार्यकर्ता और पदाधिकारी शामिल होते हैं जिला में प्रभारी मंत्री पदेन अध्यक्ष होते हैं वहीं उपाध्यक्ष में पार्टी अपने लोगों को जगह देगी प्रखंड स्तर पर भी दर्जनों लोगों को जगह मिल सकती है

Leave a Reply