Skip to content

पुलिस ने कहा- कंबल वितरण और राम मंदिर में सहयोग करने की बात कहकर भैरों सिंह ने लोगो को बुलाया था

Shah Ahmad

झारखंड की सियासत इस वक्त काफी गर्व है सत्ताधारी दल झारखंड मुक्ति मोर्चा और मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी एक दूसरे के आमने-सामने हैं दोनों ही तरफ से आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि सोमवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के काफिले में चलने वाली पेट्रोलिंग गाड़ी पर रांची के किशोरगंज चौक पर हमला किया गया था.

Advertisement

सोमवार को रांची के किशोरगंज चौक पर मुख्यमंत्री के कारकेट को रोकने का प्रयास कुछ असामाजिक तत्वों के द्वारा किया गया जिसके बाद मंगलवार को राजधानी की सुरक्षा बढ़ा दी गई मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के काफिले पर यह हमला तब हुआ जब वह प्रोजेक्ट भवन से निकल कर अपने आवास जा रहे थे इसी दौरान कारकेटी रूट लाइनिंग में सुरक्षा में अतिरिक्त जवान तैनात थे कारकेट के गुजरने से पहले जवान और पुलिस पदाधिकारी सड़क के दोनों तरफ चेकिंग और गस्ती पर थे.

Also Read: CM के काफिले पर हुए हमले को लेकर बोले डीजीपी- आयरन हैंड से कुचलेंगे, कोई ताकत नहीं रोक पायेगा

मुख्यमंत्री के स्कॉर्ट में रांची पुलिस की तरफ से अतिरिक्त गाड़ियां भी लगाई गई थी ताकि कोई भी बाधा उत्पन्न ना हो इसके साथ ही ओरमांझी में युवती की हत्या के बाद हो रहे प्रदर्शन के को देखते हुए विधि व्यवस्था की दूसरी समस्या किसी दूसरे इलाके में ना हो इसके लिए भी सभी थाना क्षेत्रों में 250 से अधिक जवान तैनात किए गए थे दूसरे थाना क्षेत्रों में भी वाहनों की जांच की गई है.

Also Read: सीएम के काफिले पर हुए हमले के बाद डीजीपी ने दो थाना प्रभारी को किया सस्पेंड

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो सुखदेव नगर थाना प्रभारी का कहना है कि सीएम के काफिले पर हमला करने की साजिश रचने वाले मुख्य आरोपी भैरो सिंह ने लोगों को कंबल वितरण और राम मंदिर निर्माण में सहयोग की बात कहकर किशोरगंज बुलाया था विभिन्न स्थानों पर कंबल लेने के लिए लोग जमा हुए थे उसी दौरान सीएम के कारकेट को रोकने की कोशिश की योजना बनी और सभी लोग किशोरगंज चौक पर आ गए और घटना को अंजाम दिया.

Leave a Reply