163104c2-fcbf-4b2a-8827-048ba4d447f1

परबतपुर कॉल ब्लॉक के मुख्य द्वार पर मुआवजे की मांग को लेकर धरने पर बैठे रैयत…..

tnkstaff
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

परबतपुर कॉल ब्लॉक के मुख्य द्वार पर पिछले पाँच सालों से बेरोजगार हुए रैयत अनिश्चितकालीन धरना पर बैठे हुए हैं। 29 जून से अब तक स्थानीय रैयतों द्वारा धरना जारी है। रैयतों का कहना है कि हमने अपने और अपने पीढ़ियों के उज्ज्वल भविष्य के लिए अमूल्य भू-भाग को कॉल ब्लॉक के लिए दिया, लेकिन कम्पनी एवं नियति के जाल में फँसकर हमारी जिंदगी ही बेकार हो गयी।

Advertisement

Also Read: BJP प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने हेमंत सरकार को बताया “मुंगेरी लाल के हसीन सपने” दिखाने वाली सरकार

झारखंड मुक्ति मोर्चा चंदनकियारी के पूर्व प्रत्याशी विजय रजवार ने स्थानीय रैयतों द्वारा दिए जा रहे धरने को अपना समर्थन दिया। मौके पर पहुँच कर उन्होंने कहा कि जब तक कॉल ब्लॉक से प्रभावित और मुआवजे से वंचित रैयतों को उनका हक नहीं मिल जाता है तब तक धरना जारी रहेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि कॉल ब्लॉक प्रशासन रैयतों के साथ पिछले 5 सालों से अन्याय कर रही है। उन्होंने ये भी कहा कि अगर 5 जुलाई से पहले रैयतों के साथ एक सफल वार्ता यदि हो जाती है तो बेहतर होगा। परन्तु वार्ता सफल नहीं होती है तो झामुमो हमेशा से जल-जमीन-जंगल की लड़ाई लड़ते आ रही है। इस बार भी इस आंदोलन को पार्टी स्तर पर किया जाएगा। मौके पर वरीय कार्यकर्ता अशोक दशौन्धी एवं महेश्वर रजवार भी शामिल रहें।

Also Read: बिहार विधानसभा में 12 सीटों पर उम्मीदवार उतारने की तैयारी में झामुमो, राजद गठबंधन का होगा हिस्सा

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches