wp-1595597043306.jpg

झारखंड में स्कूल खोला जाए या नहीं? शिक्षा विभाग ने अभिभावकों से माँगा है ऑनलाइन सुझाव

News Desk
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न समस्या को देखते हुए केंद्र सरकार ने सम्पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की थी. देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए अनलॉक की प्रक्रिया शुरू की गयी. कई ऐसे क्षेत्र थे जिसे अनलॉक में छूट दी गयी, लेकिन विद्यालयों को खोलने की अनुमति नहीं थी. केंद्र सरकार ने स्कूलों को खोलने की जिमेदारी राज्य सरकरो को दे रखी है.

Advertisement

Also Read: झारखंड में प्लाज्मा थेरेपी से होगा कोरोना मरीजों का इलाज, CM सोरेन रिम्स में करेंगे उद्घाटन

विद्यालय बंद होने के कारण बच्चो की पढाई बाधित हो रही थी, बच्चो की पढाई बाधित न हो और पठन-पाठन सुचारु रूप से चले, इसके लिए सरकार ने दूरर्शन के साथ मिलकर राज्य के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चो के लिए ऑनलाइन क्लास की शुरुआत की.

स्थिति को देखते हुए राज्य के शिक्षा विभाग ने स्कूलों को खोलने का फैसला किया है, विभाग ने मान बनाया है की अगस्त से स्कूलो को फिर से खोला जाए ताकि बच्चो की पढाई बाधित न हो.

Also Read: मनरेगा भुगतान में झारखंड देश में बना अव्वल, मजदूरों को शत-प्रतिशत हो रहा है भुगतान

सरकार ने इसके लिए अभिभावकों से ऑनलाईन सुझाव मांगे है। बच्चों के माता/ पिता/ अभिभावक http://jepc.jharkhand.gov.in या http://schooleducation.jharkhand.gov.in पर उपलब्ध Online Feedback Form पर अपना सुझाव या फीडबैक दे सकते हैं। राज्य सरकार ने कोविड-19 के मद्देनजर विद्यालय खोलने के लिये झारखण्ड के सभी सरकारी,निजी एवं सहायता प्राप्त विद्यालयों में अध्ययनरत् बच्चों के माता/पिता/अभिभावकों से 30 जुलाई तक ऑनलाईन फीडबैक मांगा गया है.

Online Feedback Form के डायरेक्ट लिंक http://forms.gle/B3QhvVatQqG38Qj4A से भी अभिभावक अपना फीडबैक दे सकते हैं।

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Related News

Popular Searches