bro

BRO ने चीन सीमा से जुड़ने वाली छतिग्रस्त पुल को मात्र 5 दिन में फिर से बना कर चीन को दे डाली चुनौती

tnkstaff
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ स्थित मुनस्यारी में सामरिक रूप से बेहद अहम माना जाने वाला बैली ब्रिज को सीमा सड़क संगठन (BRO) ने दोबारा बना दिया है. इस ब्रिज के बनने से चीन सीमा पर जाने वाले आईटीबीपी और सेना के जवानों की आवाजाही शुरू हो गयी है. साथ ही चीन को जोड़ने वाली सड़क काटने का काम भी तेजी से शुरू हो गया है.

Advertisement

कुछ समय पहले यह ब्रिज टूट गया था. यह हादसा उस वक्त हुआ जब मुनस्यारी-मिलम रोड पर एक भारी भरकम मशीन ले जाई जा रही थी. धापा के पास सेनर नाले पर बना पुल ओवरलोडिंग से भरभराकर नाले में जा गिरा. हादसे में पुल पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया था

Also Read: बाबा रामदेव के खिलाफ दर्ज हुए 5 FIR, कोरोनिल को लेकर भ्रामक प्रचार करने का आरोप

इससे जुड़ा एक वीडियो भी सामने आया था जिसमें एक ट्रक पोकलैंड मशीन लेकर ब्रिज क्रॉस करता हुआ दिख रहा था. अचानक पुल टूटकर नदीं में गिर गया. साथ ही पोकलैंड मशीन भी नदी में जा गिरी. न्यूज एजेंसी एएनआई ने 22 जून को इस घटना का वीडियो शेयर किया था. यानी कि महज पांच दिनों में एक बार फिर से बैली ब्रिज को तैयार कर दिया गया है. साथ ही जिस तेजी से काम शुरू कर संपन्न किया गया, इससे समझा जा सकता है कि इस पुल का सेना के लिहाज से क्या महत्व है. वो भी तब जब चीन और भारत के बीच सीमा मुद्दे को लेकर तनातनी चल रही है.

पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की ओर से भारतीय मीडिया रिपोर्ट्स की प्रतिक्रिया में वीडियो और क्लिप्स जारी किए जा रहे हैं.

जैसे ही बेली ब्रिज बनने की खबर सामने आई उधर PLA प्रोपेगंडा मशीनरी ने अपने इंजीनियरों की ओर से 40 मिनट में 180 मीटर लंबे पुल बिछाने की कहानी लेकर सामने आ गई. क्योंकि भारतीय सेना के इंजीनियरों की तारीफ हो रही थी तो चीन को भी साबित करना है कि उनके इंजीनियर भी कहीं से कम नहीं हैं.

Also Read: झारखंड के पूर्व DGP डीके पांडेय के खिलाफ दहेज़ प्रताड़ना का मामला दर्ज, बहू ने दर्ज कराया है केस

दरअसल चीन एक तीर से दो निशाने लगाने की कोशिश कर हा है. एक तरफ वो चीन के लोगों को भरोसा दिलाना चाहते हैं कि चीन तकनीक के मामले में भारत से बेहतर है दूसरी तरफ भारत के लोगों में भी भ्रम बनाए रखना चाहता है

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Related News

Popular Searches