Skip to content

मार रही महंगाई, 5 साल में 30 प्रतिशत तक बढ़ी है खाद्य पदार्थों सहित अन्य समानों की कीमतें

News Desk

पिछले पांच साल में खाद्य पदार्थ, रसोई गैस, स्कूल फीस, पेट्रोल-डीजल से लेकर बिजली तक 15 से 30 फीसद तक महंगी हो चुकी है। हालात ये हैं कि महंगाई से आम व खास सभी तरह के परिवारों का खर्च भी इसी अनुसार बढ़ गया है। लोग अब बजट में कटौती कर अनावश्यक खर्च से बच रहे हैं। 2017-18 से अब तक बिजली में करीब चार रुपये का इजाफा हुआ है। 

Advertisement

2018 में 3.50 रुपये प्रति यूनिट बिजली शहरी घरेलू ग्राहकों को मिलती थी। अभी सात रुपये यूनिट है। पहले 300 यूनिट खपत पर सब्सिडी थी, लेकिन अब वो भी बंद है। अखिल भारतीय विद्युत डिप्लोमा अभियंता संघ के राष्ट्रीय सलाहकार प्रमोद जायसवाल ने कहा, बिजली विभाग निजीकरण की ओर बढ़ रहा है। वहीं, इस अवधि में घरेलू रसोई गैस के दाम में 30 से अधिक की बढ़ोतरी हुई है। 

यह भी पढ़े- SUV Cars in India: महिंद्रा कंपनी ने 5 साल में 36 गाड़ियां की लॉन्च, जनता के दिलों पर राज कर रही हैं SUV कारें

2017 में 735 रुपये में मिलने वाला सिलिंडर आज 1120 रुपये में मिल रहा है। इसमें करीब 25 रुपये सब्सिडी है। पेट्रोल 2018 में 76.37 रुपये लीटर था, जो अभी 100 रुपये प्रति लीटर तक है। इसमें करीब 24 का इजाफा हुआ है। जबकि इस अवधि में डीजल की कीमत करीब 25 बढ़ी है। डीजल 71.65 रुपये से अब 95 रुपये लीटर हो गया है।

स्कूलों में मनमाने ढंग से बढ़ी फीस:

मध्यम वर्गीय परिवार सर्वाधिक जिससे परेशान है, वह है निजी स्कूलों की फीस में बढ़ोतरी। पांच साल में इसमें मनमाने ढंग से बढ़ोतरी की गई है। रांची के सामान्य स्कूलों की बात करें तो 40 से अधिक फीस पिछले पांच साल में बढ़ी है। 2018 में जो फीस 2000 रुपये मासिक थी, वह अब 3500 से अधिक हो गई है। कोरोनाकाल के बाद से इसमें और भी उछाल आया है। बड़े स्कूलों में मासिक फीस 50 तक बढ़ी है।

दवा के दाम भी लोगों को रुला रहे:

दवा के दाम भी 7 से 15 तक पांच साल में बढ़े हैं। दवा कारोबारियों के अनुसार बीपी और शुगर की दवा में सात से 10 तक उछाल आया है। किडनी, कार्डियो व न्यूरो से संबंधित बीमारियों की कीमत 10 से 15 प्रतिशत तक बढ़ी है। कारोबारियों ने बताया कि पहले चीन से रॉ मटेरियल आता था, जिसे कोरोना के दौरान बंद कर दिया गया था। इस कारण इसे अन्य देशों से मंगाना पड़ रहा था। इस कारण दाम में बढ़ोतरी हुई थी। जो बढ़ा ही रह गया।

उत्पाद       2017-18 में                      दर 2022 में दर

बिजली       3.50 रुपये प्रति यूनिट          7 रुपये प्रति यूनिट

रसोई गैस   735.50 रुपये                     1110.50 रुपये

पेट्रोल        76.37 रुपये प्रति लीटर         99.84 रुपये प्रति लीटर

डीजल       71.65 रुपये प्रति लीटर         94.65 रुपये प्रति लीटर

(आंकड़े सभी संबंधित एजेंसी-संघ से लिए गए हैं)

Leave a Reply