पेट्रोल-डीजल के दाम देश में लगातार बढ़ रहे हैं। ये बढ़ोतरी लगातार 21वीं दिन हुई है

Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on reddit

दिल्ली में पेट्रोल और डीजल दोनो लगभग 80 के पार पहुंच गया है। शनिवार को 21वे दिन भी पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी हुई है।

दिन प्रतिदिन डीजल और पेट्रोल की कीमतें बढ़ती जा रही हैं। शनिवार को फिर से दिल्ली में डीजल और पेट्रोल की कीमत में इजाफा हुआ हैं जिसमे कि दिल्ली में आज पेट्रोल 25 पैसे और डीजल 21 पैसे महंगा हुआ। पिछले 21 दिनों में राजधानी में डीजल की कीमत 11 रुपये बढ़कर 80.40 रुपये प्रति लीटर पहुंची वहीं पेट्रोल की कीमत 9.12 रुपये बढ़कर 80.38 रुपये प्रति लीटर पहुँची तथा यह भी देखा जा रहा है कि पिछले 3 दिनों में डीजल की कीमत पेट्रोल से ज्यादा बढ़ी हैं।

Also Read: बाबा रामदेव के खिलाफ दर्ज हुए 5 FIR, कोरोनिल को लेकर भ्रामक प्रचार करने का आरोप

देश के सारे हिस्सो में से केवल दिल्ली में पेट्रोल से ज्यादा महँगी डीजल हो चुकी हैं।

आपकी जानकारी के लिए ये बता दे कि सम्पूर्ण विश्व मे पहली बार डीजल की कीमत पेट्रोल से अधिक हैं। देखा गया है कि ऐसा केवल दिल्ली में ही हैं। पूरे देश मे अभी डीजल की कीमत पेट्रोल से ज्यादा नही हैं। दिल्ली में डीजल की बढ़ती हुई कीमत का मुख्य कारण वैट हैं क्योंकि लोकडौन के दौरान दिल्ली सरकार ने डीजल पर वैट की दर को बढ़ा दिया था। इससे पहले केंद्र सरकार ने भी मई के पहले हफ्ते में पेट्रोल – डीजल पर एक्ससाइज ड्यूटी बढ़ाई थी पेट्रोल पर प्रति लीटर उत्पाद शुल्क 10 रुपये और डीजल पर उत्पाद शुल्क 13 रुपये बढ़ाया गया था। यही वजह है जिसके कारण पेट्रोल और डीजल की कीमतों में इतनी तेजी से बढ़ोतरी हो रही है

Also Read: तेजस्वी यादव ने CM नितीश कुमार को पत्र लिख कर फिल्मसिटी का नाम स्व सुशांत सिंह करने की रखी मांग

गौर करने की बात यह है कि देश में कोरोना के प्रकोप को देखते हुए पिछले ढाई महीनों से लोकडौन लागू रहा और इसकी वजह से सरकार के पास पैसे आने का कोई साधन नही बचा जिससे कि सरकारी खजाना पूरी तरह से खाली हो गया। इस दौरान सरकार के पास इनकम का कोई साधन नही बचा था केवल पेट्रोल और डीजल के अलावा।

इस दौरान जीएसटी तथा डायरेक्ट टैक्सो में भी काफी गिरावट आई। अप्रैल में सेंट्रल जीएसटी कलेक्शन केवल 6000 हज़ार करोड़ रुपये का हुआ जबकि 1 साल पहले जीएसटी का कलेक्शन 47000 करोड़ हुआ था। इसी कारण से सरकार को पेट्रोल और डीजल के दामो को बढ़ाने के अलावा और कुछ भी नही सुझा।

देखा जाए तो कोरोना के इस काल मे कच्चे तेलो की दामो में काफी गिरावट आई थी। इसलिए सरकार ने ये मौका तलाशा और फिर सरकार ने इन पर टैक्स बढा कर इनके दाम बढा दिए। इससे कंपनियों का तो कोई मुनाफा न हुआ लेकिन इससे सरकार का राजश्व बढ़ता गया। कुछ वक्त पहले पेट्रोलियम पदार्थों से सरकार का राजस्व काफी कम था परंतु पिछले 5 सालों में सरकार ने पेट्रोलियम पदार्थों के राजस्व से लगभग 2.23लाख करोड़ का मुनाफा कमाया हैं।

Report: Tabbasum

Leave a Reply

In The News

BJP नेताओं के अभद्र भाषा वाले पोस्ट पर फेसबुक करता है नियमो कि अनदेखी

भारत में सांप्रदायिक दंगो और हिंसा फैलने कि मुख्य वजह सोशल मीडिया अगर माना जाए तो इसमें कोई संकोच कि…

PM मोदी ने अटल विहारी वाजपई के दूसरे पुण्यतिथि पर किया नमन, वाजपई के कार्यकाल को किया याद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अटल बिहारी वाजपेयी को उनकी दूसरी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि अर्पित की, उन्होंने देश के…

धोनी के संन्यास लेने पर बोले BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली, यह एक युग का अंत है

भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल कप्तानों में से एक महेंद्र सिंह धोनी ने अंतराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास कि घोषणा…

Anti-CAA प्रदर्शन के दौरान दिल्ली पुलिस पर लगा महिलाओ के साथ यौन उत्पीड़न करने का आरोप

NRC-NPR और CAA लागू करने के फैसले के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन हुए. दिल्ली में शुरू हुआ एंटी-सीएए आंदोलन…

पीएम मोदी सबसे ज्यादा गैर-कांग्रेस समय तक रहने वाले प्रधानमंत्री बन गए, अटल विहारी वाजपई को छोड़ा पीछे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपई के बाद सबसे ज्यादा समय तक गैर-कांग्रेस रहने वाले प्रधानमंत्री बन गए…

फाइनल ईयर कि परीक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, आ सकता है बड़ा फैसला

कोरोना महामारी में सभी विश्वविद्यालयो को बंद रखने का निर्देश केंद्र सरकार कि तरफ से जारी किया गया था. विश्वविद्यालय…

Get notified Subscribe To The News Khazana

Follow Us

Popular Topics

Trending

Related News

जोहार 😊

Popular Searches