pm modi

पीएम मोदी सबसे ज्यादा गैर-कांग्रेस समय तक रहने वाले प्रधानमंत्री बन गए, अटल विहारी वाजपई को छोड़ा पीछे

News Desk
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपई के बाद सबसे ज्यादा समय तक गैर-कांग्रेस रहने वाले प्रधानमंत्री बन गए है. पीएम मोदी का यह दूसरा कार्यकाल है. 23 मई 2019 को पीएम मोदी दूसरी बार प्रधानमंत्री निर्वाचित हुए.

Advertisement

पूर्व प्रधानमंत्री अटल विहारी वाजपई ने 2,268 दिनों तक सेवा की उसके बाद पीएम मोदी ही है जो गैर-कांग्रेस सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाले पीएम बन गए हैं। जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गाँधी और मनमोहन सिंह कांग्रेस के सबसे ज्यादा समय तक प्रधानमंत्री रहने वाले सूचि में शामिल है. अपने दूसरे कार्यकाल के एक वर्ष से अधिक समय बीत जाने के बाद भी पीएम मोदी अभी भी भारतीय राजनीति और देश के अधिकांश राजनीतिक आलोचनाओं पर ध्यान नहीं देते हैं, इसके अलावा वह कभी भी प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं करते हैं और ज्यादातर सोशल मीडिया और कार्यक्रमों में अपने भाषणों के माध्यम से समर्थकों तक पहुंचते हैं।

Also Read: राम मंदिर ट्रस्ट के प्रमुख कोरोना पॉजिटिव, PM मोदी के साथ भूमि पूजन में हुए थे शामिल

2014 के लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी कि अगुवाई वाली बीजेपी ने सभी विरोधियो को पराजित कर दिया और तीन दसक में सबसे ज्यादा बहुमत के साथ जीत कर रिकॉर्ड कायम किया। प्रधानमंत्री बनने से पहले पीएम मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री रहे. मुख्यमंत्री के रूप में 13 वर्ष तक अपनी सेवा दी.

पीएम मोदी जब अपनी स्कूली पढाई में थे तभी वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) में शामिल हो गए थे, मोदी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े थे। अपने विद्यालय के दिनों में उन्हें एक मजबूत डिबेटर के रूप में जाना जाता है. लम्बे समय तक संघ से जुड़े रहने के बाद 1985 में वे बीजेपी में आ गए और मुख्यमंत्री बनने से पहले वे कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे.

Also Read: सुन्नी वक्फ बोर्ड का फैसला नहीं बनेगा बाबरी मस्जिद, अस्पताल और कम्युनिटी किचन बनाने का निर्णय

गुजरात में 2002 के गोधरा दंगे को नहीं रोक पाने के लिए नरेंद्र मोदी पर कई आरोप भी लगे थे. कुछ का यह भी कहना था कि दंगाई को नहीं रोकना एक सोची-समझी साजिश थी. 2012 में सुप्रीम कोर्ट की निगरानी वाली विशेष जांच टीम की एक रिपोर्ट ने निष्कर्ष निकाला कि मुख्यमंत्री मोदी ने दंगों को नियंत्रित करने के लिए सभी संभव कदम उठाए। 2013 में, भाजपा ने भ्रष्टाचार के आरोपों और आर्थिक मंदी के बीच कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूपीए की खराब सार्वजनिक धारणा को भुनाने के लिए पीएम मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया।

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches