Skip to content
piyush goyal

किसान आंदोलन पर बोले केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, आंदोलन की आड़ में असामाजिक तत्व महौल बिगाड़ रहे है

tnkstaff

कृषि कानून पर चौतरफा घिरी केंद्र सरकार किसान आंदोलन को लेकर अब केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने एक बड़ी बात कही है केंद्रीय मंत्री ने आंदोलन कर रहे किसानों से कहा है कि वह अपने मंच का दुरुपयोग नहीं होने दें और सतर्क रहें केंद्रीय मंत्री का बयान तब आया है जब आंदोलित किसानों द्वारा विरोध प्रदर्शन को और तेज करने की चेतावनी दी गई है

Advertisement

पीयूष गोयल ने अपने बयान में कहा है कि किसान अपनी मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं लेकिन कुछ असामाजिक वामपंथी और माओवादी तत्व के लोग आंदोलन का माहौल बिगाड़ने की साजिश रच रहे हैं खाद रेलवे और उपभोक्ता मामलों के मंत्री पीयूष गोयल ने आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसा लगता है जैसे कुछ माओवादी और वामपंथी तत्वों ने आंदोलन का नियंत्रण संभाल लिया है और किसानों के मुद्दे पर चर्चा करने की जगह कुछ और एजेंटों के साथ काम कर रही है पीयूष गोयल ने किसानों से अपील करते हुए कहा है कि वे किसी के बहकावे में ना आकर सरकार से बातचीत करें किसानों के लिए सरकार के दरवाजे हमेशा खुले हैं और सरकार हर मुद्दे पर चर्चा करने के लिए तैयार है

Also Read: Farmer Protest: किसानों और सरकार के बीच तकरार जारी, किसान यूनियन ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की याचिका

पीयूष गोयल ने ट्वीट करते हुए लिखा कि “देश की जनता देख रही है उसे पता है कि क्या चल रहा है समझ रही है कि कैसे पूरे देश में वामपंथियों और माओवादियों को कोई समर्थन नहीं मिलने के बाद भी किसान आंदोलन को हाईजैक करके इस मंच का इस्तेमाल अपने एजेंडे के लिए करना चाहते हैं” किसान नेताओं ने हालांकि बृहस्पतिवार को स्पष्ट रूप से कहा था कि केंद्र के कृषि कानून के खिलाफ उनके प्रदर्शन का राजनीति से कोई वास्ता नहीं है

बता दे कि किसानों और सरकार के बीच कई दोनों की बातचीत बेनतीजा साबित हुई है जिसके बाद किसान नेताओं ने गुरुवार को यह घोषणा की थी कि सरकार यदि उनकी मांगे नहीं मानती है तो वह देश भर में रेलमार्ग को जाम करेंगे और शीघ्र ही इस बारे में तारीख भी घोषित करेंगे किसान नेताओं और सरकार के बीच कम से कम पांच दौरे की वार्ता हो चुकी है परंतु अभी भी तीन नए कृषि कानून को लेकर गतिरोध जारी है

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches