Skip to content
polutated water

गर्मियों की आहट पहुंचने से पहले ही सूखने लगे जल स्रोत, गांव में दूषित पानी पीने को हुए ग्रामीण मजबूर

tnkstaff

देशभर में लोगों के स्वास्थ्य की चिंता करते हुए सुप्रीम कोर्ट निर्देशित कर चुकी है कि लोगों को शुद्ध पानी उपलब्ध कराना सरकारों का काम है. लोगों का मौलिक अधिकार है कि उन्हें साफ और स्वच्छ पानी दिया जाए लेकिन ना तो देश की सर्वोच्च न्यायालय के आदेश का पालन किया जा रहा है और ना ही लोगों के मौलिक अधिकार उन्हें दिए जा रहे हैं.

Advertisement

यही कारण है कि देहरी टपरिया गांव के लोग दूषित पानी पीने के लिए मजबूर हैं इस गांव का हाल इतना खराब है ,कि यह पानी इतना गंदा है कि पानी पीना तो दूर की बात है उस पानी से हाथ भी धोया नहीं जा सकता लेकिन उस गांव के लोग उस पानी को पीते हैं.

Also Read: जब तक किसानों की मांगे पूरी नहीं होती, तब तक सरकार को चैन से बैठने नहीं देंगे

यह गांव दरअसल, मध्यप्रदेश में है जो शहर से करीब 7 किलोमीटर दूर देहरी टपरा गांव में आदिवासी लोग निवास करते हैं ,जो कि मजदूरी करके अपना जीवन यापन करते हैं. यहां हर वर्ष फरवरी महीने से ही पानी की समस्या होने लगती है. जल स्रोतों जैसे -नदी ,तालाब कुएं, आदि का पानी सूखने लगते हैं. इसके बाद भी ना तो ग्राम के पंचायत प्रतिनिधि यहाँ ध्यान देती है ,और ना ही विभाग के अधिकारी ध्यान देते है. पानी के लिए दूसरे गांव या कई किलोमीटर दूर तक जाना पड़ता है. इसलिए देहरी टपरिया गांव के लोग गंदे पानी पीने को मजबूर हैं.

Report by: Kiran Kumari

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches