Skip to content
Advertisement

Jharkhand ED Raid: झारखण्ड में चपरासी से पदाधिकारियों तक कर रहा असहज

Jharkhand ED Raid: मुख्यमंत्री सचिवालय में प्रधान आप्त सचिव के पद पर तैनात उदय शंकर के मोबाइल से ईडी बड़ा राज खोलने की जुगत में हैं। मंगलवार को छापेमारी के बाद ईडी उदय को ऑफिस में ले गई थी।

देर रात तक मोबाइल डाटा की क्लोनिंग व पूछताछ के बाद उसे छोड़ दिया गया। ईडी उसके मोबाइल से हटाए गए डाटा व व्हाट्सएप चैट को री-स्टोर करने में जुटी है। एजेंसी को अंदेशा है कि उदय के मोबाइल से जमीन घोटाले से जुड़े अहम खुलासे हो सकते हैं।

सुप्रियो ने कहा कि चपरासी से अफसर तक को डराया जा रहा है। बार-बार सीएमओ का नाम लिया जा रहा है। कोरोना के दो सालों के बाद जब हेमंत सरकार ने बेहतर प्रदर्शन कर विकास का काम शुरू किया तभी से खेल शुरू हुआ। उन्होंने आरोप लगाया है कि सीबीआई, ईडी अब राज्य में अजीब मकड़जाल की तरह दिख रही है। अब कोई अधिकारी भी यहां किसी से बात करने में कतराता है। पूरे सिस्टम को ठप करने किया जा रहा है। अधिकारियों को योजनओ का समय पर पूरा करने के लक्ष्य से भटकाया जा रहा है ताकि राज्य सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनओं को आम जनता तक पहुँचने नहीं दिया जाए. साथ ही सरकार के पूरे तंत्र को उलझा दिया जाए और सरे कामकाज ठप हो जाए.

इसे भी पढ़े- Jharkhand Politics: दीपक प्रकाश के पेट में पूर्व के बीजेपी सरकार के घोटालों से दर्द क्यों नहीं होता

Advertisement
Jharkhand ED Raid: झारखण्ड में चपरासी से पदाधिकारियों तक कर रहा असहज 1