Skip to content

Jharkhand Budget 2023: खेल संघ ने राज्य सरकार से की मांग, खिलाडियों को भी मिले आयुष्मान योजना का लाभ

md saddam

Jharkhand Budget 2023: झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार ने आगामी बजट को लेकर आम जनता से उनकी राय मांगी है. सरकार की ओर से आम जनता से राय मांगने के लिए अधिकारिक पोर्टल भी लॉन्च किया है. जिसके माध्यम से लोग अपनी राय सरकार को भेज सकते है.

Advertisement

झारखंड ओलिंपिक एसोसिएशन के कार्यालय में बजट पर आयोजित परिचर्चा के दौरान खेल संघ के पदाधिकारियों और कोच ने कहा कि खेल और खिलाड़ियों के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज है इंफ्रास्ट्रक्चर और खेल से जुड़ी सुविधाएं. इसके लिए ही बजट में प्रावधान करना चाहिए. इसके अलावा राज्यस्तरीय मेडल विजेता खिलाड़ियों को भी आयुष्मान की सुविधा दी जाये, जिससे खिलाड़ी खुलकर खेल सकें.

Jharkhand Budget 2023: बजट में ग्रास रूट पर खिलाड़ियों को सपोर्ट करने का हो प्रावधान

एथलेटिक्स एसके पांडे ने कहा कि बजट में कोई ऐसी योजना होनी चाहिए, जिससे ग्रास रूट पर खिलाड़ियों को सपोर्ट मिल सके. इसके अलावा रेलवे में भी यात्रा के दौरान खिलाड़ियों को छूट मिलनी चाहिए. कुछ बोझ हल्का हो जायेगा.

Also Read: Chaibasa: पत्नी को प्रेमी के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देख पति हुआ बेकाबू, पति ने प्रेमी को कुल्हाड़ी से काट डाला

एथलेटक्स सिंकदर महतो ने कहा कि बजट में कुछ ऐसा प्रावधान हो कि स्कूली स्तर से ही खिलाड़ी सामने आएं. इसके लिए स्कूलों में खेल का मैदान बनाने की जरूरत है. वहीं हर खेल से एक-एक कोच को भी प्रमोट करने की जरूरत है. खिलाड़ियों का बेस तैयार होगा.

Jharkhand Budget 2023: डॉ मधुकांत पाठक ने कहा, इंफ्रास्ट्रक्चर को सपोर्ट करने वाला बजट हो

झारखंड ओलिंपिक संघ के महासचिव डॉ मधुकांत पाठक ने कहा कि बजट ऐसा हो, जो इंफ्रास्ट्रक्चर को सपोर्ट करे. इसके साथ ही राज्य में ट्रैक और स्टेडियम का प्रावधान बजट में होना चाहिए. जिला स्तर पर खिलाड़ियों को प्रमोट करने की योजना बजट में शामिल करनी चाहिए. वहीं, वीमेन फेस्टिवल को भी फिर से शुरू करना चाहिए, जो अब बंद है. सबसे अहम पहल स्टेट लेवल के मेडल विजेता खिलाड़ियों को आयुष्मान योजना से जोड़ने की होनी चाहिए.

वहीं, वुशु के शिवेंद्र दुबे ने कहा कि कई इंटरनेशनल इवेंट का आयोजन होना है. इसके लिए खिलाड़ियों के लिए अधिक से अधिक ट्रेनिंग कैंप का प्रावधान बजट में होना चाहिए. कोच के लिए स्पेशल व्यवस्था की जानी चाहिए, जिससे उन्हें भी बेहतर सुविधा मिल सके.

Leave a Reply