bihar-floods_optimized

बिहार में बाढ़ से मचा हाहाकार, 8 जिलों की तक़रीबन 3 लाख आबादी बाढ़ से प्रभावित

News Desk
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

मॉनसून आते ही बिहार में बाढ़ का खतरा बढ़ जाता है. प्रत्येक वर्ष पुरा बिहार बाढ़ की चपेट में होता है, राज्य में सरकारे आई और गयी लेकिन स्थिति जस की तस बनी हुई है. बाढ़ की वजह से बिहार के 8 जिले अभी काफी प्रभावित है. इन जिलों के तक़रीबन 3 लाख आबादी बाढ़ से प्रभावित है.

Advertisement

प्रभावित जिलों में सीतामढ़ी, शिवहर, सुपौल किशनगंज, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज और पूर्वी चंपारण शामिल है। आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार लगभग तीन लाख लोग अभी बाढ़ की चपेट में है जिसमें सबसे अधिक दरभंगा के 1 लाख 58 हजार तो किशनगंज के सबसे कम मात्र 290 लोग बाढ़ से प्रभावित हैं।

Also Read: दूसरे प्रदेश से झारखंड आने वाले इन बातो का रखे ध्यान, नहीं तो होगी कार्रवाई

सरकार ने प्रभावितों की सहायता के लिए 7 राहत शिविर खोले हैं जिसमें सुपौल में दो दरभंगा में दो और गोपालगंज में तीन है। इन राहत शिविरों में 2306 लोग रह रहे हैं। जबकि प्रभावितों के लिए जिला प्रशासन की ओर से सामुदायिक रसोईघर का भी संचालन शुरू कर दिया गया है।

उत्तर बिहार में नदियों के पानी में उतार-चढ़ाव के बीच बाढ़-कटाव के संकट से तबाही का दौर जारी है। शनिवार को सीतामढ़ी में एप्रोच पथ तो मधुबनी में पुलिया ध्वस्त हो गई है। मुजफ्फरपुर के अहियापुर थाने में पानी घुस गया। सीतामढ़ी में डूबने से दो की मौत हो गई। गंडक, बूढ़ी गंडक, बागमती का रुख अलग-अलग हिस्सों में कहीं नरम तो कहीं गरम है। मनुषमारा, लखनदेई और अधवारा समूह की नदियां भी खूब तेवर दिखा रहीं हैं।

Also Read: CM नितीश कुमार ने 264 करोड़ से बने जिस पुल का 29 दिन पहले किया था उद्घाटन, पानी के तेज बहाव में बहा

राज्य में आधा दर्जन नदियां कहीं ना कहीं लाल निशान से ऊपर ही बह रही हैं। उधर गंगा नदी के जलस्तर में शुक्रवार को थोड़ी वृद्धि के बाद पटना में इसका जलस्तर गिरने लगा है। बागमती दरभंगा, सीतामढ़ी और मुजफ्फरपुर में अब भी खतरे के निशान से ऊपर है। कोसी और गंडक का डिस्चार्ज तो अपनी सीमा में आ गया है। कमला जयनगर में नीचे तो झंझारपुर में अब भी ऊपर है।

राज्य में कोसी नदी का डिस्चार्ज बराह क्षेत्र में 1.38 लाख घनसेक और बराज पर मात्र 1.45 लाख घनसेक रह गया है। गंडक का डिस्चार्ज भी काफी गिरा है। बाल्मीकीनगर बराज पर इसका डिस्चार्ज1.55 लाख घनसेक रह गया है। दूसरी नदियों के घटने के साथ गांगा का जलस्तर भी शुक्रवार को पटना में गिरा है। पटना के गांधी घाट मेंं लगभग एक मीटर तो दीघा में लगभग दो मीटर नीचे है।

Also Read: भाजपा सांसद निशिकांत दुबे और पत्नी पर सरकारी दस्तावेज में छेड़छाड़ और जालसाजी का आरोप, दर्ज हुआ FIR

बागमती नदी सीतामढ़ी में एक मीटर और मुजफर्फरपुर और दरभंगा में यह मात्र 25 से 40 सेमी ऊपर है। कमला जयनगर में गिर कर नीचे आई है। झंझारपुर में अब भी उतरकर लाल निशान से 5 0 सेमी ऊपर है। अधवारा सीतामढ़ी में मात्र एक जगह ऊपर है तो खिरोई नदी दरभंगा में नीचे आई लेकिन अब भी लाल निशान से ऊपर है। महानंदा पूर्णिया में अब मात्र 40 सेमी ऊपर रह गई है

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches