स्थानीय नीति को लेकर बीजेपी-झामुमो आमने-सामने, स्थानीयता को लेकर बीजेपी नेता ने हेमंत पर लगाया बड़ा आरोप

Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on reddit

झारखंड में स्थानीय नीति का मुद्दा सबसे बड़ा रहा है. स्थानीय नीति कि वजह से ही बीजेपी के वर्तमान विधायक सह राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. लेकिन राज्य गठन के 20 वर्ष बाद भी स्थानीय नीति परिभाषित नहीं हो सकी है. राज्य में कई सरकारे आई और गई लेकिन स्थानीयता के मुद्दे पर चुप्पी साधे बैठे रहते थे.

Also Read: CM सोरेन ने किया अनुबंध कर्मियों के सेवा सुधार सहित अन्य मामलो को लेकर समिति का गठन

राज्य में पूर्ण बहुमत कि सरकार बीजेपी ने रघुवर दास के नेतृत्व में चलाई लेकिन वह भी इस काम को अंजाम तक नहीं पहुंचा पाए. नेता प्रतिपक्ष के रूप में हेमंत सोरेन ने स्थानीयता के मुद्दे को खूब भुनाया और इसे चुनावी मुद्दों में शामिल कर लिया. 2019 के विधानसभा चुनाव में जनता ने बीजेपी को अपना समर्थन न देकर हेमंत सोरेन को अपना मुख्यमंत्री चुना. राज्य के 20 वर्षो में 15 वर्षो से अधिक शासन करने वाली पार्टी राज्य के मुद्दों को लेकर जनता के दिलो से दूर नजर आई.

एक बार फिर राज्य में स्थानीयता का मुद्दा गर्म हो गया है. एक तरफ झामुमो के कुछ नेता 1932 खतियान आधारित स्थानीय नीति कि बात करते है तो दूसरी तरफ हेमंत सरकार अपने वादे को पूरा करने के लिए एक कमिटी का गठन कर स्थिति से अवगत होना चाहते है ताकि वक्त रहते फैसले लिए जा सके.

Also Read: तो इसलिए DGP के पद से हटाए गए थे कमल नयन चौबे, राज्य सरकार ने बताया कारण

बीजेपी के प्रदेश महामंत्री सह राज्य सभा सांसद समीर उरावं ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को लेकर बड़ी बात कह दी है. समीर उरावं ने कहा कि राज्य में जैसे ही कोई चुनाव आता है हेमंत सोरेन और उनकी पार्टी स्थानीय नीति का राग अलापने लगते है. राज्य में दुमका और बेरमो का उपचुनाव होना है. उपचुनाव को ध्यान में रखकर ही हेमंत सोरेन स्थानीय नीति कि बात कर रहे है. यही वजह है कि झामुमो स्थानीय नीति का मुद्दा उठाकर जनता को गुमराह करने कि कोशिश कर रही है. राज्य सरकार को सदन में बताना चाहिए कि वह किस खतियान पक्षधर है.

Also Read: निजी अस्पतालों को स्वास्थ्य मंत्री का अल्टीमेटम, कोरोना कि आड़ में मरीजों का शोषण करने पर होगा लाइसेंस रद्द

आगे समीर उरावं ने कहा कि हेमंत कभी नहीं चाहते कि स्थानीय नीति पर बात हो. यह सिर्फ जनता को गुमराह करना जानते है. पूर्व कि रघुवर सरकार में जब स्थानीय नीति पर चर्चा के लिए कमिटी द्वारा तैयार कि गई रिपोर्ट लाई गई थी उस वक्त नेता प्रतिपक्ष कि हैसियत से इनसे उम्मीद कि गई थी कि इस पर चर्चा करेंगे. लेकिन ऐसा न करके सदन से भाग खड़े हुए. जो दर्शाता है कि यह कभी स्थानीय नीति के पक्ष में नहीं है.

Leave a Reply

In The News

आंदोलनरत सहायक पुलिसकर्मीयों की हड़ताल समाप्त, 2 साल का सेवा विस्तार का एलान

रांची के मोहराबदी मैदान में 12 सितंबर से राज्य भर के सहायक पुलिसकर्मी आंदोलन कर रहे थे. उनका कहना है…

Jharkhand News: टॉपरों से किया वादा शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने किया पूरा, उपहार में दिया अल्टो कार

हेमंत सरकार बनने के बाद डुमरी से झामुमो विधायक जगरनाथ महतो को राज्य का शिक्षा मंत्री बनाया गया है. शिक्षा…

Jharkhand: BJP विधायक पर भड़के स्पीकर रविन्द्रनाथ महतो कहा, सदन में गुंडागर्दी नहीं चलेगी

झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र 18 सितंबर से शुरू होकर 22 सितंबर को खत्म हो गया. कोरोना काल के बीच…

Sarna Dharam Code: सरना धर्म कोड को मान्यता देने के लिए हेमंत सरकार सदन में आज ला सकती है प्रस्ताव

आदिवासी हिन्दू नहीं है यह बात कहते हुए आपने कई आदिवासियों को सुना होगा. अपनी अलग पहचान बताते हुए आदिवासी…

Jharkhand Monsoon Session: विधानसभा का मानसून सत्र आज हंगामेदार रहने के असार, सरकार को घेरने की तैयारी में विपक्ष

झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र आज एक बार फिर शुरू हो रहा है. शुक्रवार को शुरू हुए मानसून सत्र में…

सरना धर्म कोड लागू करने कि फिर उठी मांग, आदिवासी संगठनों ने सड़को पर उतर बनाया मानव श्रंखला

सरना धर्म कोड लागू करने कि मांग लंबे समय से आदिवासी संगठनो द्वारा किया जा रहा है. झारखंड जैसे आदिवासी…

Get notified Subscribe To The News Khazana

Follow Us

Popular Topics

Trending

Related News

जोहार 😊

Popular Searches