Skip to content

धोनी के संन्यास लेने पर बोले कांग्रेस विधायक इरफ़ान अंसारी, बीजेपी के राजनीति का हो गए शिकार

झारखंड के लाल महेंद्र सिंह धोनी के द्वारा संन्यास कि घोषणा के बाद प्रदेश में राजनीति शुरू हो गई है. जामताड़ा से कांग्रेस विधायक सह प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष डॉ इरफ़ान अंसारी ने धोनी के संन्यास लेने के पीछे कि वजह बीजेपी के राजनीति को बताया है. विधायक ने कहा कि धोनी ने संन्यास खुद नहीं लिया है बल्कि बीजेपी के भारी दबाव के कारण ऐसा हुआ है.

Also Read: धनबाद बीजेपी जिला अध्यक्ष चंद्रशेखर पर पार्टी कि महिला ने लगाया चरित्र हनन का आरोप

आगे विधायक इरफ़ान अंसारी ने कहा कि अब भी माही में काफी क्रिकेट बचा है। वे पूरी तरह से शारीरिक और मानसिक रूप से फिट है। यही कारण है कि माही चेन्नई सुपर किंग्स के लिए उपलब्ध है और अभी 5 साल और क्रिकेट खेलेंगे। उनकी फिटनेस युवाओं के लिए एक प्रेरणा है परंतु जिस प्रकार माही ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लिया वो थोड़ा समझ से परे है। कहीं ना कहीं माही राजनीति का शिकार हो गए।

धोनी को क्रिकेट बोर्ड द्वारा जारी कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट कि किसी भी कैटेगरी में जगह नहीं दे कर बीसीसीआई ने साफ साफ इशारा कर दिया था। बीसीसीआई के इस फैसले के बाद से ही माना जा रहा था कि धोनी का अब राष्ट्रीय टीम में खेलने का रास्ता मुश्किल हो गया है। कहीं ना कहीं माही भाजपा की राजनीति का शिकार हो गए। गृह मंत्री अमित शाह के बेटे एवं बीसीसीआई सचिव जय शाह के दबाव में धोनी का नाम कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट से हटाया गया।

Also Read: धोनी के संन्यास लेने पर बोले BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली, यह एक युग का अंत है

धोनी से आग्रह करते हुए विधायक ने कहा अपने संन्यास के फैसले पर पूर्ण विचार करें। क्योंकि पूरा भारत अब भी धोनी को क्रिकेट खेलता देखना चाहता है। धोनी प्रतिभा के धनी है और इनके नेतृत्व में भारत ने तो विश्वकप जीतने का भी काम किया।