laxman Giluwa

झामुमो पर पूर्व सांसद लक्ष्मण गिलुवा का हमला कहा, 6 महीने की सरकार एक भी वादा पूरा नहीं कर पाई है

News Desk
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सह सिंहभूम के पूर्व सांसद लक्ष्मण गिलुवा ने राज्य सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि राज्य में झामुमो की सरकार बने 6 महीने हो गए परन्तु अब तक सरकार ने कोई भी एक बड़ा काम नहीं किया है. और ना ही पहले की योजनाओ को धरातल पर उतारा है.

Advertisement

Also Read: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और पत्नी कल्पना सोरेन की कोरोना जांच रिपोर्ट आई निगेटिव

विधानसभा चुनाव के समय झारखंड मुक्ति मोर्चा ने जनता से काफी वादे किए थे मगर एक भी वादा इन लोगों ने पूरा नहीं किया। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा था कि वह सरकार बनने के बाद जल्द ही स्थानीय नीति को अपनी भाषा में परिभाषित करेंगे. और स्थानीय लोगों को रोजगार देंगे मगर अब तक ऐसा कुछ भी नहीं हुआ

आगे लक्ष्मण गिलुवा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी इस चीज का इंतजार कर रही है कि मौजूदा सरकार स्थानीय नीति को कब अपनी भाषा में परिभाषित करेगा। झारखंड मुक्ति मोर्चा के लोग पूरे राज्य में घूम-घूम कर दिया कह रहे थे कि यदि हमारी सरकार बनेगी तो हम लोग पारा शिक्षकों को परमानेंट कर देंगे।

Also Read: पूर्व की रघुवर सरकार में गठित ग्राम विकास समितियों की फंडिंग पर रोक, खर्च नहीं की गयी राशि होगी वापस

सरकार से हमारा सवाल है कि वह परमानेंट तो कर देंगे मगर पारा शिक्षकों को वेतन कहां से देंगे क्योंकि आपके पास तो पैसे ही नहीं है आप आए दिन रोते रहते हैं कि सरकार के पास फंड नहीं है आप केंद्र सरकार से बार-बार आर्थिक पैकेज की मांग करते हैं. झारखंड मुक्ति मोर्चा पर आरोप लगाते हुए कहा है कि आपने इससे विकास वाहिकाओं को भी मानदेय देने की घोषणा की थी मगर मौजूदा सरकार अब तक अपने वायदों पर खरा नहीं उतरी है

Also Read: आकाशीय बिजली गिरने से साहिबगंज में 3 महिलाओ की मौत, 4 अन्य भी झुलसे

कोरोना पर लक्ष्मण गिलुवा ने कहा कि राज्य में जिस रफ्तार से कोरोना का टेस्ट होना चाहिए था उस तरह से कोरोना का टेस्ट नहीं हो रहा है लोगों के कोरोना रिपोर्ट की गति काफी धीमी है. राज्य में सबसे पहले कोरोना के मामले हिंदपिढ़ी से आए यदि सरकार मौका रहते हिन्दपीढ़ी को पूरी तरह का सील कर देती तो आज राज्य में कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा साढ़े तीन हजार नहीं पंहुचता.

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches