Skip to content
Road-Contractor

झारखंड में बन रही आठ लाइन सड़क निर्माण का कार्य सरकार ने रोका, जानिए सरकार की तरफ से क्या बताई गई वजह

News Desk

झारखंड में बनने वाली पहली आठ लाइन सड़क निर्माण पर ग्रहण लग गया है. सरकार की ओर से जारी पत्र में फंड की कमी को आधार बनाकर अगले आदेश तक काम बंद करने का आदेश जारी कर दिया गया है।

Advertisement

धनबाद के गोल बिल्डिंग से कतरास के काको मोड़ तक सड़क निर्माण का कार्य किया जा रहा था। पिछले एक साल में लगभग 20 प्रतिशत काम भी पूरा कर लिया गया है। पाइप शिफ्टिंग और बिजली पोल शिफ्टिंग का काम अभी चल रहा था। ऐसे समय में सरकार ने काम बंद करने का आदेश देकर लोगों को चौंका दिया।

Also Read: ऑडियो विवाद पर भाजपा हमलावर, मंत्री आलमगीर आलम का मांगा जा रहा है इस्तीफा

सड़क का निर्माण दो एजेंसी मिलकर कर रही है। पहली एजेंसी शिवालया को गोल बिल्डिंग से बिनोद बिहारी चौक तक का काम वहीं दूसरी एजेंसी त्रिवेणी कंस्ट्रक्शन को दिया गया है। सरकार का आदेश मिलने के बाद दोनों ही एजेंसी ने काम बंद कर दिया है। आधी-अधूरी सड़क का काम बंद होने से कहीं कहीं अधूरा कल्वर्ट तो कहीं छड़ निकला हुआ रेलिंग रास्ते में दिखाई दे रहा है। 416 करोड़ की लागत से निर्माण कार्य किया जा रहा था.

Also Read: मोदी सरकार का बड़ा फैसला, RBI की निगरानी में अब होंगे सभी को-ऑपरेटिव बैंक

मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल ने आशंका जताई थी कि सरकार फंड को आधार बनाकर आठ लेन सड़क का काम रोक सकती है. पिछले महीने नगर निगम स्टैंडिंग कमेटी की बैठक में आठ लेन सड़क को राशि कम होने पर डीएमएफटी फंड से पैसे देने का प्रस्ताव पास किया था। मेयर की अध्यक्षता वाली कमेटी ने डीएमएफटी फंड से पैसे देने का निर्णय लिया गया था।

Also Read: झामुमो ने भाजपा पर लगाया दोहरे चरित्र का आरोप कहा, अडानी ने चीन की कंपनी को जो ठेका दिया है उसे रद्द करे

यह सड़क सुव्यवस्थित और पूर्व प्रधानमंत्री स्व.अटल बिहारी बाजपेयी के नाम पर होनी थी। फरवरी 2021 तक काम पूरा होने का लक्ष्य रखा गया था। अब सरकार ने फंड की कमी का हवाला देते हुए निर्माण रोक दिया है। पूर्व मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल का कहना है कि सड़क निर्माण कर रहे स्टेट हाइवे अथॉरिटी ऑफ झारखंड (साज) के पास विश्व बैंक का 107 करोड़ और खुद का 30 करोड़ रुपये पड़ा हुआ है, ऐसे में काम रोकना समझ से परे है। जबकि पिछली स्टैंडिंग कमेटी की बैठक में डीएमएफटी फंड से राशि खर्च करने की भी बात कही गई थी। काम रोकना सरकार की अदूरदर्शिता का परिचायक है। लगभग 18 फीसद काम हो चुका है।

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches