Skip to content
raghuvar-das

पक्ष और विपक्ष में रहकर हेमंत सोरेन सिर्फ जुबानी तीर चलाते है:- पूर्व CM रघुवर दास

Arti Agarwal

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राज्य की हेमंत सरकार पर एक बार फिर कड़ा प्रहार किया है पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने हेमंत सरकार के 10 महीने के कार्यकाल को याद करते हुए कहा चेन्नई सरकार बनने के बाद राज्य में कोई भी विकास का कार्य नहीं हो सका है इस सरकार में केवल भ्रष्टाचार बिगड़ती विधि व्यवस्था का बोलबाला है हेमंत सोरेन भाजपा के 5 साल बेदाग सरकार पर आरोप लगा रहे हैं कि हमारी सरकार में भ्रष्टाचार हुए हैं अगर उन्हें ऐसा लगता है तो बेहिचक जांच करवाएं

Advertisement

Also Read: दीपक प्रकाश पर हुए FIR पर बोले बाबूलाल मरांडी, सरकारी तंत्र का हो रहा दुरुपयोग

पूर्व मुख्यमंत्री ऐसा भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवर दास इन दिनों बिहार चुनाव में भाजपा प्रत्याशियों के लिए चुनाव प्रचार करने बिहार जा रहे हैं ऐसे में बिहार चुनाव में प्रत्याशियों का प्रचार कर लौट रहे रघुवर दास ने बाबा वैद्यनाथ मंदिर में दर्शन किए. दर्शन करने के बाद रघुवर दास नहीं हेमंत सोरेन सहित उनके पूरे परिवार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि सोरेन परिवार आदिवासियों के नाम पर राजनीति करती है लेकिन उन्हें यह भी बताना चाहिए कि आदिवासियों के नाम पर राजनीति करते हुए उन्होंने कितनी धन अर्जित किए हैं साथ ही रघुवर दास ने मुख्यमंत्री सहित झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेताओं द्वारा दुमका उपचुनाव में दिए गए भाषणों पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जिस प्रकार से उपचुनाव में सत्ताधारी दल के द्वारा भाषण बाजी की गई है वह दर्शाता है कि उनकी हार निश्चित है.

Also Read: दुमका और बेरमो उपचुनाव की उलटी गिनती शुरू, कौन किस पर पड़ेगा भारी!

पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने हेमंत सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार बनने से पहले सत्ताधारी दल झारखंड मुक्ति मोर्चा और कांग्रेस ने कई वादे करके जनता को लुभाने का प्रयास किया लेकिन सरकार बन जाने के बाद एक भी वादा पूरा नहीं किया गया है. यूपीए गठबंधन की सरकार बनने के बाद किसानों की ऋण माफी सहित 1 साल में 5 लाख युवाओं को रोजगार देने की बात कही गई थी जो साफ झूठ साबित हुआ है आगे उन्होंने कहा कि राज्य में विधि व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है आए दिन महिलाओं के साथ जघन्य अपराध घटित हो रहे हैं लेकिन राज्य सरकार मौन धारण करके बैठी हुए हैं उन्हें राज्य की विधि व्यवस्था को लेकर कोई मतलब नहीं है.

Advertisement

Leave a Reply

Popular Searches