LABOUR-STRIKE

कॉमर्शियल माइनिंग के खिलाफ 18 अगस्त को मजदूर संगठनो का हड़ताल

News Desk
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

देशभर में कोरोना महामारी की वजह से हुए लॉकडाउन के कारण देश और राज्यों की अर्थव्यवस्था की हालत पूरी तरह से बिगड़ चुकी है. अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए केंद्र सरकार की ओर से आत्मनिर्भर भारत मिशन की शुरुआत की गई है. इसी के तहत प्रथम चरण में देशभर के 41 कोल ब्लॉक की नीलामी की जाएगी या यूँ कहे की निजी हाथो में सौपी जाएगी। कोल ब्लॉक की नीलामी को लेकर 18 अगस्त को एक बार फिर मजदूर संगठन हड़ताल पर जाने की तैयारी कर रहे है.

Advertisement

Also Read: नई विधानसभा की ईमारत का हिस्सा हुआ क्षतिग्रस्त, पीएम मोदी ने किया था उद्घाटन

पूर्व में भी हो चूका है कॉमर्शियल माइनिंग के खिलाफ हड़ताल:

कॉमर्शियल माइनिंग के खिलाफ पूर्व में भी तीन दिवसीय हड़ताल हो चूका है. कोल ब्लॉक को निजी हाथो में सौपने और कोल ब्लॉक नीलामी को लेकर मजदुर संगठन पिछले माह यानी जुलाई में 2-4 तारीख के बीच हड़ताल पर जा चुके है. एक बार फिर मजदूर संगठन हड़ताल पर जाने की घोषण कर चुके है. इस बार वे 18 अगस्त को हड़ताल पर जायेंगे। क्यूंकि इसी दिन 41 कोल ब्लॉक की नीलामी होना है. जिसका विभिन्न मजदुर संगठन लगातार विरोध कर रहे है.

Also Read: जनता को मुर्ख बनाने के लिए है नई शिक्षा नीति, राज्य में नहीं होगा लागू- जगरनाथ महतो

झारखंड के कोल ब्लॉक की भी होगी नीलामी:

18 अगस्त को जिन 41 कोल ब्लॉक की नीलामी होना है उनमें झारखंड के भी 9 कोल ब्लॉक शामिल है. ऐसे में लाजमी है की इसका व्यापक असर झारखंड में देखने को मिलेगा। झारखंड में कोल ब्लॉक नीलामी का विरोध इस कदर है की राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुँच चुके है. राज्य सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कोल ब्लॉक की नीलामी को लेकर एक याचिका दायर की है जिसमे कहा गया है की कोल ब्लॉक के निजीकारण का फैसला लिया गया है साथ ही इसकी नीलामी भी होनी है लेकिन जिस राज्य में यह सब होगा उसे ही इसकी खबर नहीं है. बिना राज्य सरकार से विचार किए कैसे नीलामी की जा सकती है.

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Related News

Popular Searches