20200725_183040

IIT खड़गपुर का दावा घंटे भर में कोरोना टेस्ट का रिजल्ट देगा उनका डिवाइस

News Desk
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

कोरोना महामारी से पूरा देश बेहाल है, देश की सरकार हो या राज्य की सरकारे सभी के सामने कोरोना से निपटने की चुनौती है. महामारी की रोकथाम के लिए टेस्टिंग अभी भी सरकारों के सामने बड़ी समस्या बनी हुई है। लेकिन आईआईटी खड़गपुर के शोधकर्ताओ ने एक ऐसी तकनीक का इजात किया है जिसकी मदद से घंटे भर में कोरोना का टेस्ट हो सकेगा।

Advertisement

Also Read: राहुल गाँधी का बीजेपी पर तंज कहा- आपदा को मुनाफ़े में बदल कर कमा रही है ग़रीब विरोधी सरकार

आइआइटी खड़गपुर के शोधकर्ताओं ने कमाल की टेक्नॉलजी खोजी है। शोधकर्ताओं ने दावा किया है कि इस टेक्नॉलजी की मदद से कोरोना का रैपिड टेस्ट किया जा सकता है। इसके जरिए कोरोना टेस्ट के नतीजे पहले के मुकाबले काफी कम समय में हासिल किए जा सकते हैं। शोधकर्ताओं ने बताया कि यह एक कस्टोमाइज्ड स्मार्टफोन ऐप्लीकेशन है, जिसकी मदद से एक घंटे में बिना किसी मैनुअल इंटरप्रिटेशन के कोरोना टेस्ट का रिजल्ट हासिल किया जा सकता है।

Also Read: पत्थलगड़ी मामले में फरार घो​षित पत्थलगड़ी की प्रमुख नेत्री बेलोसा बबीता कच्छप गिरफ्तार

आइआइटी की इस अद्भुत खोज से कोरोना टेस्ट बढ़ाने की दिशा में काफी मदद मिल सकती है। स्वास्थ्य विभाग इसे अच्छे संकेत के तौर पर ले रहा है। डिवाइस हर किसी के लिए सुलभ भी होगी क्योंकि इसकी कीमत भी बेहद मामूली है। शोधकर्ताओं ने बताया कि इस अल्ट्रा-पोर्टेबल डिवाइस की कीमत सिर्फ 400 होगी।

Also Read: केंद्रीय मंत्री “गिरिराज सिंह लापता” ढूंढ़ने वाले को मिलेगा 10 हज़ार का इनाम

कोरोना की रोकथाम के लिए टेस्टिंग को सबसे अहम उपाय माना जा रहा है। हालांकि, इसके बावजूद बहुत से राज्य टेस्टिंग को लेकर जूझते नजर आ रहे हैं। कई टेस्टिंग के तरीके काफी महंगे भी हैं, जो हर किसी के लिए सुलभ नहीं हैं। चीन के वुहान से फैले इस वायरस का प्रकोप पूरी दुनिया में छाया हुआ है। इस वक्त वक्त वैश्विक स्तर पर संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 56 लाख 65 हजार के पार पहुंच गई है।

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches