20200727_225459

झारखंड के इस जिले में सबसे तेजी से फ़ैल रहा है कोरोना वायरस, सावधान रहने की जरुरत

News Desk
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

झारखंड में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामले राज्य सरकार के लिए चिंता का कारण बन गया है, जुलाई माह में जितनी तेजी से कोरोना ने अपने पैर पसारे है उतना पिछले तीन महीनो में संक्रमण के मामले सामने आए है. कोरोना के बढ़ते मामलो को देखते हुए उसपर लगाम लगाने के लिए राज्य सरकार ने तैयारी कर ली है.

Advertisement

Also Read: बरहेट थाना प्रभारी का युवती से अभद्र व्यवहार, CM ने लिया संज्ञान, थाना प्रभारी लाइन हाज़िर

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव नितिन मदन कुलकर्णी की प्रेसवार्ता:

राज्य के स्वास्थ्य प्रधान सचिव नितिन मदन कुलकर्णी, आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव अमिताभ कौशल और परिवहन सचिव के रवि कुमार ने संयुक्त प्रेसवार्ता कर राज्य में कोरोना के ताजा हालात की जानकारी दी. नितिन कुलकर्णी ने बताया की राज्य में कुल एक्टिव केस 4689 हैं, जबकि 4050 लोग स्वस्थ हो चुके हैं. 23 लोग ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं. 22 लोग वेंटिलेटर पर हैं. 536 लोग राज्यभर में होम आइसोलेशन में है, जिसमें सबसे ज्यादा 196 लोग रांची में हैं.

Also Read: झारखंड में कोरोना से पहले पुलिसकर्मी की गई जान, रांची में था तैनात

हज़ारीबाग में तेजी से फ़ैल रहा है कोरोना वायरस:

झारखंड के स्वास्थ्य प्रधान सचिव नितिन मदन कुलकर्णी ने प्रेसवार्ता में जिलावार जानकारी देते हुए कहा की रांची में संक्रमण की दर 4.75% फ़ीसदी है, जबकि हजारीबाग में सबसे ज्यादा 5.66 फ़ीसदी संक्रमण की दर है. राज्य में कुल 1072 कंटेनमेंट जोन में से 377 कंटेनमेंट जोन को हटाया लिया गया है. वर्तमान में मात्र 705 कंटेनमेंट जोन हैं. अगर रांची की बात करते तो कोरोना मरीजों के लिए यहाँ कुल 670 बेड की व्यवस्था की गई है. इसके अलावा 500 बेड खेल गांव में सुनिश्चित किए गए हैं.

Also Read: विधायक सरयू राय द्वारा “मेनहर्ट घोटाले” पर लिखी गई पुस्तक ‘लम्हों की खता’ का हुआ लोकार्पण

दूसरे राज्यों से आने वालो की वजह से बढ़ रहा है कोरोना का संक्रमण:

स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि दूसरे राज्यों से झारखंड आ रहे लोगों की वजह से ही प्रदेश में संक्रमण बढ़ रहा है. उन्होंने कहा कि बाहर से आने वाले सभी लोगों को 14 दिन के क्वारंटाइन में रहना होगा. हालांकि कार्गो और भारत सरकार के अधिकारी पर यह नियम लागू नहीं होगा। कोरोना नियमों के उल्लंघन पर दंड के आदेश को लेकर उन्होंने कहा कि अपराध की गंभीरता पर ही दंड तय किये जाएंगे. शादी में नियम के विपरीत ज्यादा लोगों को आमंत्रित करने पर सबसे ज्यादा दंड का प्रावधान है. वही मास्क नहीं लगाने पर न्यूनतम दंड होगा।

Also Read: दिन में थाना हुआ सील, तो थोड़ी दुरी पर स्थित कपडे की दुकान में रात को चोरो ने किया हाथ साफ़

राज्य में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की रिकवरी रेट 43.68 प्रतिशत:

राज्य में मरीजों की रिकवरी रेट 43.68 फ़ीसदी है. जबकि अबतक 90 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है. राज्यभर में 6922 सामान्य बेड की व्यवस्था सरकार ने कर रखी है. इसके अलावा 2411 डीसीएचसी बेड भी तैयार हैं. इसमें 1956 बेड में ऑक्सीजन सपोर्ट की सुविधा है, वहीं 58 बेड में वेंटिलेटर की सुविधा उपलब्ध है.

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches