jharkhand-corona_optimized

झारखंड में जल्द शुरू होगी ट्रेन के डिब्बों में कोरोना मरीजों का उपचार, रेलवे कोच कोविड वार्ड में बदला

News Desk
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

झारखंड में कोरोना संक्रमितों की सांख्य में तेजी से वृद्धि हो रही है. प्रत्येक दिन 100 से अधिक मामले सामने आ रहे है. ऐसे में कोविड अस्पतालों में बेड कि कमी होना लाजमी है. अस्पतालों में कम होते बेड को ध्यान में रखते हुए झारखंड सरकार जल्द कोरोना के हल्के लक्षण वाले मरीजों का उपचार आइसोलेशन वार्ड में तब्दील रेलवे कोच में करने को लेकर आदेश जारी कर सकती है.

Advertisement

Also Read: साल के अंत से पहले लोगो तक पहुँच सकती है कोरोना वैक्सीन, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के पहले फेज का ट्रायल सफल

रांची रेलवे डिवीज़न ने कहा है कि 490 कोरोना संक्रमितों वाले मरीजों की क्षमता वाले 30 कोच को बनाकर तैयार कर लिया गया है. जो हटिया स्टेशन पर तैयार खड़े है. अधिकारियो ने कहा कि हम इन कोचों के उपयोग के बारे में सरकार के साथ बातचीत कर रहे हैं। इन विशेष कोचों का इस्तेमाल जल्द ही कोविद रोगियों के इलाज के लिए किया जाएगा।

Also Read: कोरोना के कहर से उजड़ गया परिवार, 16 दिन के अंदर परिवार के 5 लोगों की गई जान

मार्च में केंद्र सरकार ने रेलवे के डिब्बों को आइसोलेशन यूनिट में बदलने का फैसला किया था जहां कोविद -19 मरीजों का इलाज किया जा सकता था। राज्य के स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी ने कहा कि विशेष कोच उपयोग के लिए उपलब्ध है और सरकार जब चाहे इसके लिए मरीजों का इलाज शुरू कर सकती है। आगे कुलकर्णी ने कहा कि कोच हमें उपलब्ध कराए गए हैं और हम उनका इस्तेमाल करना शुरू कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि हल्के से मध्यम लक्षणों वाले मरीजों का इलाज इन रेलवे कोचों में किया जाएगा।

Also Read: दुनिया भर में भारत में सबसे तेजी से बढ़ रहे है कोरोना के मरीज, अगस्त के अंत तक 44 लाख पहुँच सकता है आंकड़ा

रेलवे के आंकड़ों के अनुसार, प्रत्येक कोच में 16 मरीज बैठ सकते हैं। इनमें से अधिकांश कोच नॉन-एसी कोच हैं क्योंकि यह माना जाता था कि एक वातानुकूलित वातावरण वायरस के प्रसार में सहायता कर सकता है. स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि गंभीर लक्षणों वाले रोगियों और वेंटिलेटर पर रहने वाले लोगों का इलाज केवल अस्पतालों में किया जायेगा जो कोविद आईसीयू में तब्दील किया गया है।

अधिकारियों ने कहा कि रांची के चार कोविद अस्पतालों में 300 से अधिक मरीज रह सकते हैं। लेकिन राज्य के सबसे बड़े अस्पताल राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (RIMS) में केवल 100 बेड कोरोना मरीजों के लिए हैं, जबकि डिका सुपरस्पेशलिटी अस्पताल में लगभग 21 कोविद बेड हैं।

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Related News

Popular Searches