20200726_105830

कारगिल दिवस पर बोले PM, सैनिकों का शौर्य आने वाली पीढ़ियों को प्रेरणा प्रदान करता रहेगा

News Desk
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on pocket

करगिल विजय दिवस के मौके पर उन वीर सपूतों को श्रद्धांजलि दी जाती है जिन्होंने देश की खातिर अपनी जान न्यौछावर कर दी थी. 26 जुलाई, 1999 को भारत ने सफलतापूर्वक उन उच्च चौकियों की कमान संभाली जिसे पाकिस्तान ने अपने कब्जे में ले लिया था. पीएम मोदी ने कारगिल युद्ध में शहीद हुए सैनिको को याद करते हुए कहा है कि सैनिकों का शौर्य आने वाली पीढ़ियों को प्रेरणा प्रदान करता रहेगा उसे भुलाया नहीं का सकता है.

Advertisement

Also Read: IIT खड़गपुर का दावा घंटे भर में कोरोना टेस्ट का रिजल्ट देगा उनका डिवाइस

करगिल महज दो देशों के बीच युद्ध की कहानी भर नहीं थी. यह सफेद बर्फ को अपने लहू से लाल कर देने वाले हिंदुस्तानी फौज की शौर्य, बलिदान और समर्पण की कहानी है. एक ऐसी कहानी जिसे जानकर ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं और भारत मां के उन सच्चे वीर सपूतों को दिल बार-बार सलाम करने को कहता है. विपरित परिस्थियों में भारतीय सैनिकों ने हिम्मत नहीं हारी और पाकिस्तान सेना को खदेड़कर मां भारती के ललाट पर विजय का रक्त चंदन लगाया।

Also Read: केंद्रीय मंत्री “गिरिराज सिंह लापता” ढूंढ़ने वाले को मिलेगा 10 हज़ार का इनाम

भारतीय सेना ने कारगिल युद्ध के दौरान चलाए गए ‘ऑपरेशन विजय’ को सफलतापूर्वक अंजाम देकर भारत भूमि को घुसपैठियों के चंगुल से मुक्त कराया था. इसी की याद में ‘26 जुलाई’ अब हर वर्ष करगिल दिवस के रूप में मनाया जाता है.

Also Read: पत्थलगड़ी मामले में फरार घो​षित पत्थलगड़ी की प्रमुख नेत्री बेलोसा बबीता कच्छप गिरफ्तार

चीन से चल रही तनातनी के बीच 21वां करगिल विजय दिवस इस साल थोड़ा फीका हो सकता है. हर साल 26 जुलाई को करगिल विजय दिवस बेहद धूमधाम से मनाया जाता है. लेकिन इस बार लेह स्थित 14वीं कोर पूरी तरह से चीन सीमा पर तैनात है इसलिए द्रास-करगिल में कोई खास कार्यक्रम नहीं आयोजित किए गए. हालांकि, लद्दाख के द्रास‌ स्थित करगिल वॉर मेमोरियल पर रविवार को शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाएगी।

Advertisement

Leave a Reply

Share on facebook
Share on twitter
Share on pocket
Share on whatsapp
Share on telegram

Popular Searches