लॉकडाउन के बीच 20 अप्रैल से फिर शुरू होगी टोल वसूली, केंद्र ने दी हरी झंडी

लॉकडाउन के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग पर 20 अप्रैल से फिर टोल टैक्स की वसूली शुरू होगी। केंद्र सरकार के द्वारा इसकी मंजूरी दे दी गयी है. कोरोना वायरस के बढ़ते मामलो की वजह से भारत में लॉकडाउन की गयी है जिस कारण से केंद्र सरकार ने हाईवे पर चलने वाली गाड़ियों को टोल टैक्स फ्री किया था.

Also Read: भाजपा विधायक ने जबरन स्वास्थ्य विभाग के सैनिटाइजर ग्लव्स और मास्क उतारे कहा, चंदा दिए है तो हम ही बाँटेंगे

बता दें कि लॉकडाउन के पहले चरण की समाप्ति के एक दिन बाद 15 अप्रैल से टोल वसूली का काम फिर फिर से शुरू करने की योजना बनाई गई थी। हालांकि, बाद में केंद्र की ओर से लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ा दिया गया था।फिर भी, गृह मंत्रालय ने कई आवश्यक उद्योगों को 20 अप्रैल से दोबारा शुरू करने के लिए छूट दी है।

Also Read: भारत के इतिहास में पहली बार घर पर पढ़ा जायेगा तरावीह की नमाज़, मुख़्तार अब्बास नकवी ने दिए आदेश

गृह मंत्रालय ने भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण को लिखे एक पत्र में कहा कि यह आगे बताया गया है कि टोल शुल्क संग्रह सरकारी खजाने में योगदान देता है और एनएचएआई को बजटीय सहायता के लिए वित्तीय ताकत भी प्रदान करता है। सभी ट्रकों और अन्य सामानों या वाहक वाहनों के अंतरराज्यीय और बाहरी राज्यों में आवाजाही के लिए गृह मंत्रालय द्वारा प्रदान की गई ढील के मद्देनजर एनएचएआई को आदेशों के अनुपालन के लिए आवश्यक कार्रवाई करनी चाहिए। इसको देखते हुए टोल की वसूली 20 अप्रैल 2020 से फिर से शुरू किया जाएगा।

Also Read: 3 मई तक बढ़ा लॉकडाउन, पीएम ने कहा घर के बुजुर्गो का रखे ख्याल

ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने केंद्र सरकार से टोल संग्रह(टोल वसूली) शुरू करने के फैसले पर पुनर्विचार करने को कहा है। ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस(एआईएमटीसी) के अध्यक्ष कुलतारन सिंह अटवाल ने एक सख्त टिप्पणी में कहा कि सरकार को इस क्षेत्र पर कोई वित्तीय बोझ डालने से पहले अपने फैसले पर पुनर्विचार करना चाहिए, जो पहले से ही अर्थव्यवस्था के तहत लॉकडाउन के कारण गिर गया है।

3 मई तक बढ़ा लॉकडाउन, पीएम ने कहा घर के बुजुर्गो का रखे ख्याल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में लागू लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने का एलान किया है. आज राष्ट्र के नाम संबोधन में पीएम मोदी ने कहा है कि सभी का यही सुझाव है कि लॉकडाउन को बढ़ाया जाए. कई राज्य तो पहले से ही लॉकडाउन को बढ़ाने का फैसला कर चुके हैं. सारे सुझावों को ध्यान में रखते हुए ये तय किया गया है कि भारत में लॉकडाउन को अब 3 मई तक और बढ़ाना पड़ेगा. पीएम मोदी ने इससे पहले देश को कोरोना वायरस के प्रकोप से बचाने के लिए 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की थी. आज इस लॉकडाउन का 21वां दिन है.

Also Read: पीएम के साथ बैठक में बोले हेमंत सोरेन मनरेगा के तहत मजदूरी दर बढ़ाकर न्यूनतम 300 रुपये प्रतिदिन किया जाए

पीएम मोदी ने कहा, ”3 मई तक हम सभी को, हर देशवासी को लॉकडाउन में ही रहना होगा. इस दौरान हमें अनुशासन का उसी तरह पालन करना है, जैसे हम करते आ रहे. अब कोरोना को हमें किसी भी कीमत पर नए क्षेत्रों में फैलने नहीं देना है. स्थानीय स्तर पर अब एक भी मरीज बढ़ता है तो ये हमारे लिए चिंता का विषय होना चाहिए.”

Also Read: सीएम हेमंत सोरेन ने उपायुक्तों से कहा जन वितरण प्रणाली की दुकानों का औचक निरीक्षण करें

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा, ‘’कोरोना वैश्विक महामारी के खिलाफ भारत की लड़ाई बहुत मजबूती के साथ आगे बढ़ रही है. आप सभी देशवासियों की तपस्या, आपके त्याग की वजह से भारत अब तक, कोरोना से होने वाले नुकसान को काफी हद तक टालने में सफल रहा है.” उन्होंने कहा, ”आप लोगों ने कष्ट सहकर भी अपने देश को बचाया है. मैं जानता हूं, आपको कितनी दिक्कते आई हैं. किसी को खाने की परेशानी, किसी को आने-जाने की परेशानी, कोई घर-परिवार से दूर.”

पीएम मोदी ने कहा, ”बाबा साहेब डॉक्टर भीम राव आंबेडकर की जन्म जयंती पर हम भारत के लोगों की तरफ से अपनी सामूहिक शक्ति का ये प्रदर्शन, ये संकल्प उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि है.” उन्होंने कहा, ”आज विश्व में कोरोना वैश्विक महामारी की जो स्थिति है, आप उसे भली-भांति जानते हैं. अन्य देशों के मुकाबले, भारत ने कैसे अपने यहां संक्रमण को रोकने के प्रयास किए, आप इसके सहभागी भी रहे हैं और साक्षी भी रहे हैं.”

Also Read: सर्वदलीय बैठक में बोले सीएम “जो लोग रोग छुपा रहे हैं, वे मौत को दावत दे रहे हैं”

बता दें कि देश में जानलेवा कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में दिन पर दिन इजाफा हो रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक देश में अब इस महामारी से संक्रमित मरीजों की संख्या दस हजार के पार पहुंच गई है. मंत्रालय के मुताबिक, अबतक 10 हजार 363 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. वहीं, 339 लोगों की मौत हो चुकी है. हालांकि 1036 लोग ठीक भी हुए हैं

पटाखे फोड़ने वालो को गौतम गंभीर की नसीहत “हम अब भी लड़ाई के बीच में है पटाखे फोड़ने का वक़्त नहीं”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा देशवासियो से अपील की गयी थी की एकता का परिचय देते हुए पांच अप्रैल को रात 9 बजकर 9 मिनट पर दीप जला जलना है परन्तु कुछ इसके विपरीत पटाखे भी फोड़े जो सांसद गौतम गंभीर को न गवार गुजरा।

जैसा की प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अपील की थी, पूरे देश ने रविवार को अपनी बालकनियों में मोमबत्तियाँ और दीया जलाईं। यह इसलिए करने को कहा गया था क्यूंकि कोरोनवायरस के खिलाफ लड़ाई में एकजुटता दिखाना था। हालाँकि, पीएम के “दीया जलाव” ’की अपील के विपरीत, कई लोगों को पूरे भारत में पटाखे फोड़ते देखा गया। जैसे ही घड़ी ने 9 के कांटे को छुआ , भारत भर के लोगों ने अपने घरों में रोशनी बंद कर दी और बालकनियों में अंधेरे कर कोरोना को हराने के लिए मोमबत्ती, टॉर्च, दीया जलाकर बालकनियों में इकट्ठा हो गए। हालाँकि, लोगों ने पटाखे फोड़ने का सहारा लिया और कई स्थानों पर हिंदू भक्ति गीत, मंत्र और राष्ट्रगान भी बजाए गए।

Also Read: पिछले 24 घंटे में कोरोना के 693 नए मामले आये सामने, जानिए कुल कितनी है कोरोना मरीजों की संख्या

भारत के पूर्व क्रिकेटर और भाजपा सांसद गौतम गंभीर कोन जैसे ही इस कदम की भनक लगी उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “INDIA, STAY INSIDE! हम अभी भी एक लड़ाई के बीच में हैं। पटाखे फोड़ने का अवसर नहीं! ” गंभीर ने चिकित्सा उपकरणों की खरीद और राष्ट्रीय राजधानी में COVID-19 रोगियों के उपचार के लिए दिल्ली सरकार को 50 लाख रुपये और दान करने का संकल्प लिया है।

एक पत्र में, गंभीर ने कहा: “दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि दिल्ली के कई सरकारी अस्पतालों में चिकित्सा उपकरणों की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए धन की आवश्यकता है।” तो 50 लाख रुपये के अलावा जो मैंने दो सप्ताह पहले प्रतिज्ञा की थी, मैं अपने एमपी फण्ड से अपने कार्यकाल में 50 लाख रुपये की प्रतिज्ञा इस उम्मीद के साथ करना चाहूंगा कि उक्त राशि चिकित्सा कर्मचारियों के लिए उपकरणों की खरीद में उपयोगी होगी और COVID-19 रोगियों का उपचार इससे होगा।

Also Read: उत्तरप्रदेश में 19 वर्ष के युवक ने 8 साल की बच्ची का किया रेप, पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार

गंभीर के अलावा, भारत के पूर्व खिलाड़ी इरफान पठान और स्पिनर आर अश्विन ने भी उस समय पटाखे फोड़ने वाले लोगों पर चिंता जताई जब पूरी दुनिया महामारी से लड़ रही है।

Also Read: BIT सिंदरी के तीन छात्रों ने बनाया कोरोना से संक्रमित व्यक्ति का पता लगाने वाला बैंड

पठान ने ट्वीट कर कहा “यह बहुत अच्छा था जबर्दस्त पीपीएल ने पटाखे फोड़ना शुरू कर दिया #IndiaVsCorona” जबकि अश्विन जिन्होंने अपने ट्विटर हैंडल का नाम बदलकर ‘भारत को रहने देते हैं’ रखा, उन्होंने ट्वीट किया, “लेकिन मुझे वास्तव में आश्चर्य है कि इन सभी लोगों ने अपने पटाखे खरीदे और फोड़े भी. भारतीय कप्तान विराट कोहली, रोहित शर्मा, हरभजन सिंह, सुरेश रैना और सचिन तेंदुलकर सहित क्रिकेटरों ने एकजुटता दिखाने के लिए अपनी बालकनियों में दीपक जलाया।

सहारनपुर पुलिस ने कहा, तब्लीग़ी जमात के लोगो द्वारा नॉन-वेज मांगने और खुले में शौच की बात निकली झूठी

भाजपा शासित राज्य उत्तर प्रदेश में कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया पर एक खबर तेजी से वायरल हुई जिसमे कहा जा रहा था की तब्लीग़ी जमात से जुड़े लोगो को क्वारंटाइन में रखा गया है, जहाँ उन्होने खाने में नॉन-वेज माँगा और खुले में शौच कर दिया। जमातियों के द्वारा अश्लील हरकते भी की गयी. खबर को वायरल होते देख इस पर जांच कमिटी बनी और सहारनपुर पुलिस ने इसे महज एक अफवाह बताया।

Also Read: पीएम की अपील पर बत्ती बुझेगी आज, पावर ग्रिड को संभालना होगी चुनौती, तो वही कांग्रेस हुई हमलावर

सहारनपुर पुलिस ने एक प्रेस नोट जारी करते हुए कहा की “हम यह बताना चाहते हैं कि हमने रामपुर मनिहारन के थाना प्रभारी को विभिन्न समाचार पत्रों, समाचार चैनलों और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म द्वारा किए गए दावों को सत्यापित करने के लिए निर्देशित किया, जांच के बाद, यह पाया गया कि विभिन्न समाचार पत्रों, समाचार चैनलों के सोशल मीडिया प्लेटफार्मों द्वारा किए गए दावे नकली थे। इसलिए, सहारनपुर पुलिस उपरोक्त प्रकाशित समाचार वस्तुओं को पूरी तरह से खारिज करती है। ”

Also Read: बोकारो में मिला झारखण्ड का तीसरा कोरोना पॉजिटिव, लोगो को सतर्क रहने की जरुरत

सहारनपुर पुलिस ने एक प्रसिद्ध हिंदी समाचार चैनल के एक समाचार फ्लैश पर भी प्रतिक्रिया व्यक्त की, जिसने जामातिस और मुस्लिम समुदाय को अपमानित करने के लिए उकसाने वाली सुर्खियां बनाईं।

जब से दिल्ली पुलिस ने निजामुद्दीन मरकज से तब्लीगी जमात के सदस्यों को निकाला, तब से भारतीय मीडिया के कुछ न्यूज़ चैनल और पत्रिकाएं लगातार भारत के मुस्लिम समुदाय के खिलाफ एक प्रेरित अभियान चला रहे हैं। कुछ ने दावा किया था कि जमातियों ने डॉक्टरों और पुलिस पर थूका हैं जबकि अन्य ने नर्सों के साथ दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया है। पुलिस वाले पर थूकने वाला वीडियो भी झूठा था. उस वीडियो का तब्लीग़ी मरकज़ से कोई लेना देना नहीं था.

Also Read: उत्तरप्रदेश में 19 वर्ष के युवक ने 8 साल की बच्ची का किया रेप, पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार

हालांकि, एक महिला जो एक चिकित्सा अधिकारी होने का दावा करती है, जो निज़ामुद्दीन मरकज़ से लोगो को निकालने वाली टीम का हिस्सा थी, उसने खुलासा किया है कि किसी ने भी उनके साथ दुर्व्यवहार नहीं किया था।

उत्तरप्रदेश में 19 वर्ष के युवक ने 8 साल की बच्ची का किया रेप, पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार

कोरोनावायरस से जंग के बीच लागू लॉकडाउन में भी अपराधी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं. यूपी के गौतमबुद्ध नगर जनपद के सलारपुर में एक 8 वर्षीय मासूम बच्ची की रेप के बाद हत्या करने का मामला सामने आया है. इस मामले में पुलिस ने 19 वर्षीय आरोपी को गिरफ्तार किया है.

रविवार को एक 8 वर्षीय बच्ची गंभीर अवस्था में सलारपुर स्तिथ कबाड़ी के गोदाम में मिली थी. इसके बाद उसे सेक्टर 30 स्तिथ चाइल्ड पीजीआई हॉस्पिटल में इलाज के लिए एडमिट किया गया था. जहां इलाज के दौरान मासूम ने दम तोड़ दिया. इस मामले में नोएडा के सेक्टर 49 थाना क्षेत्र में मामला दर्ज कर आरोपी युवक को गिरफ्तार किया गया है.

Also Read: पीएम की अपील पर बत्ती बुझेगी आज, पावर ग्रिड को संभालना होगी चुनौती, तो वही कांग्रेस हुई हमलावर

गौतमबुद्ध नगर के डीसीपी संकल्प शर्मा ने बता कि एक 19 वर्षीय युवक को 8 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म और हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. मासूम बच्ची सलारपुर स्थित कबाड़ के गोदाम में गंभीर अवस्था में मिली थी. मासूम का इलाज के दौरान चाइल्ड पीजीआई में मौत हो गई. मामले में एफआईआर दर्ज कर अग्रिम कार्रवाई की जा रही है.

पीएम की अपील पर बत्ती बुझेगी आज, पावर ग्रिड को संभालना होगी चुनौती, तो वही कांग्रेस हुई हमलावर

पीएम नरेंद्र मोदी के रविवार रात 9 बजे 9 मिनट के लिए बत्तियां बंद करने की अपील के बाद पावर ग्रिड को खतरे की आशंका के बीच ऊर्जा मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि इसका कोई असर नहीं होगा। सरकार ने इससे निपटने की पूरी तैयारी कर ली है। दरअसल, कई राज्यों ने पत्र लिखकर अपने-अपने यहां पावर ग्रिडों को इस स्थिति से निपटने की तैयारी करने को कहा है।

Also Read: सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट करेंगे तो जाना होगा जेल, झारखण्ड पुलिस की नज़र से बचना मुश्किल

पावर ग्रिड कारपोरेशन ऑफ इंडिया के मुताबिक 9 मिनट के ब्लैकआउट से करीब 12 से 15 गीगावाट बिजली मांग में गिरावट आएगी। वहीं, विपक्ष ने मांग में अचानक कमी आने से ग्रिड को खतरा जताया है। केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने शनिवार को पावर ग्रिड कारपोरेशन और ग्रिड संचालक पॉवर सिस्टम ऑपरेटर कारपोरेशन (पोसोको) के साथ बैठक कर ग्रिड पर बढ़ने वाले लोड, इससे होने वाले नुकसान और उससे निपटने की तैयारियों पर चर्चा की।

पावर ग्रिड कारपोरेशन ऑफ इंडिया के मुताबिक इस दौरान 12 से 13 गीगावाट का भार पड़ेगा वो भी दो से चार मिनट तक और नौ मिनट बाद स्थिति सामान्य हो जाएगी। इससे निपटने के लिए मांग में गिरावट को हाइड्रो और गैस संसाधनों की मदद से नियंत्रित किया जाएगा। शाम 6:10 से रात 8 बजे तक हाइड्रो पावर उत्पादन कम कर दिया जाएगा।

Also Read: जिंदगी की जंग हार गया ऑटो ड्राइवर, लॉकडाउन बनी वजह, फांसी लगाकर की आत्महत्या

सभी कोयला एवं गैस संचालित संयंत्रों को ऐसे चलाया जाएगा कि बिजली की मांग-आपूर्ति को नियंत्रित किया जा सके। केंद्रीय ऊर्जा सचिव संजीव नंदन सहाय ने कहा, सभी राज्यों और क्षेत्रीय पावर ग्रिड को आपात स्थिति से निपटने के लिए जरूरी कदम की जानकारी दी जाएगी। यूपी के स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर ने राज्य की सभी पावर ग्रिडों को सतर्क रहने और जरूरी कदम उठाने की सिफारिश की है।

तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल ने भी सभी पावर ग्रिडों को एसएलडीसी की सिफारिशों को लागू करने के निर्देश दिए हैं। वहीं, न्यूक्लियर पावर कॉरपोरेशन इंडिया लिमिटेड के सहायक निदेशक एमके माथुर ने कहा है कि नौ मिनट घर के सभी पंखे जरूर चलाए रखें।

Also Read: युवती ने कुछ लोगो सहित थानेदार पर लगाया परेशान करने का आरोप, सीएम के संज्ञान के बाद दर्ज हुई प्राथमिकता

चिंता : पावर ग्रिड नेटवर्क पर हाईवोल्टेज की लहर

यूपी स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर (यूपीएसएलडीसी) का अनुमान है कि नौ मिनट लाइट बंद करने पर ग्रिड नेटवर्क पर लोड में कमी आ सकती है। अचानक आई कमी से यूपी व बाकी राज्यों सहित देश भर में पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड के ग्रिड नेटवर्कों पर हाईवोल्टेज की लहर बन सकती है।

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने यूपी एसएलडीसी का पत्र ट्वीट कर ग्रिड फेल होने की आशंका जताई। वहीं, जयराम रमेश ने ग्रिड को लेकर चिंता जताते हुए कहा, सरकार को इसके लिए तैयारी करनी चाहिए। महाराष्ट्र सरकार के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने भी मांग घटने से ग्रिड फेल होने की चिंता जताई है।

Also Read: अगर आप बैंक जाने की सोच रहे है तो पहले पढ़ ले इस खबर को, वरना जाना होगा बेकार

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा है कि मोदी बेहतरीन संवादकर्ता हैं। थाली-ताली बजवाने या मोमबत्ती-दीया जलवाने की बजाय उन्हें लोगों को शिक्षित करना चाहिए। तथ्यों से अवगत कराकर लोगों का विश्वास जीतना चाहिए। उन्हें सिंगापुर के प्रधानमंत्री की तरह देशवासियों को शिक्षित करना चाहिए।

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आज़ाद ने बनायी राजनितिक पार्टी, दिया “आज़ाद समाज पार्टी” का नाम

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर ने अपनी नई राजनीतिक पार्टी का एलान कर दिया है। उन्होंने पार्टी का नाम आजाद समाज पार्टी (Azad Samaj Party) रखा है। नोएडा के सेक्टर 70 स्थित बसई गांव में उन्होंने संविधान की शपथ लेकर आजाद समाज पार्टी (एएसपी) के गठन की घोषणा की। पार्टी का झंडा नीले रंग का होगा। सर्वसम्मति से चन्द्रशेखर आजाद को आजाद समाज पार्टी का अध्यक्ष चुना गया।

नई पार्टी के नाम के एलान के दौरान भीम आर्मी के बड़ी संख्या में कार्यकर्ता और नेता मौजूद रहे। बताया जा रहा है कि कार्यक्रम में शामिल होने के लिए 28 पूर्व विधायक और 6 पूर्व सांसद भी पहुंचे हैं।

Also Read: फुरकान अंसारी ने आरपीएन सिंह को बताया सौदेबाज, कहा पैसे के भूखे है झारखण्ड कांग्रेस प्रभारी

नोएडा पुलिस ने भीम आर्मी के प्रमुख चन्द्रशेखर आजाद को गेस्ट हाउस में कार्यक्रम करने की अनुमति नहीं दी थी। इसके बावजूद भीम आर्मी के समर्थक कार्यक्रम स्थल का ताला तोड़कर गेस्ट हाउस के अंदर घुस गए ।डीसीपी सेंट्रल जोन हरीश चंदर का कहना है कि भीम आर्मी को कार्यक्रम की कोई अनुमति नहीं दी गई। बावजूद लोगों ने जबरन गेट का ताला खोलकर कार्यक्रम शुरू किया है। जो कि गैरकानूनी है इसलिए कार्यक्रम आयोजित करने वालों और इसमें शामिल होने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जायेगी।

इससे पहले नोएडा पुलिस ने कोरोना वायरस का हवाला देकर भीम आर्मी के कार्यक्रम पर रोक लगा दी। बताया जा रहा है कि इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए देश के कई राज्यों से भीम आर्मी समर्थक आए हुए हैं। कार्यक्रम स्थगित होने के बाद चंद्रशेखर के समर्थकों में मायूसी हाथ लगी है।

Also Read: भाजपा में शामिल हुए सिंधिया, कहा कांग्रेस में अब वो बात नहीं रही

रविवार को काशीराम जयंती पर गौतमबुध नगर में भीम आर्मी प्रमुख नई पार्टी की घोषणा करने पहुंच रहे है। वह आज नई पार्टी का मेनिफेस्टो और पार्टी स्लोगन घोषित करने वाले है। बता दें गौतमबुध नगर में कोरोना वायरस के चलते मनोरंजन के किसी भी कार्यक्रम के साथ-साथ सामूहिक गेदरिंग पर रोक लगा दी गई है।

जिस जगह पर नई पार्टी का एलान किया जाना है पुलिस ने उस स्थल पर ताला जड़कर एक नोटिस लगा दिया था और नोटिस में लिखा गया है कि कोरोना वायरस के चलते आप कहीं भी पब्लिक मीटिंग या किसी तरीके का कोई कार्यक्रम नहीं कर सकते।

Also Read: कमलनाथ सरकार को एक और झटका, शिवराज सिंह से मिले सपा-बसपा के 2 विधायक

कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोग उत्तर प्रदेश सहित विभिन्न जिलों से लोग पहुंचे है। लोगों का कहना है कि वे भीम आर्मी के समर्थन में यहां आए हैं

विवादों में घिरे डॉ कफील के छोटे मामा को बदमाशो ने गोली मारकर की हत्या, जाँच में जुटी पुलिस

डॉ कफील आज किसी पहचान के मोहताज नहीं है, उत्तरप्रदेश में जब ऑक्ससीजन क आभाव में बच्चो की मौत हो रही थी उस वक़्त डॉ कफील ही थे जो बच्चो को बचाने के लिए जद्दो-जहद कर रहे थे लेकिन इसकी वजह से उन्हें जेल भी जाना पड़ा था.

गोरखपुर के राजघाट इलाके के बनकटी चक के पास स्थित आवास में घुसकर शहर के पुराने रईस नुसरत उल्लाह वारसी उर्फ अफसर (56) की बदमाश ने गोली मारकर हत्या कर दी। शुक्रवार की रात ग्यारह बजे के करीब गोली की आवाज सुनकर घर में मौजूद बेटी दौड़ी मगर तब तक बदमाश फरार हो चुका था।

Also Read: दो युवको ने आदिवासी लड़की के साथ किया दुष्कर्म, भेजे गए जेल

हत्या की खबर पाते ही एसएसपी डॉ. सुनील कुमार गुप्ता, एसपी सिटी डॉ. कौस्तुभ, सीओ कोतवाली वीपी सिंह तीन थाने की फोर्स और फोरेंसिक एक्सपर्ट के मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम को भेजकर छानबीन शुरू कर दी है।

मृतक डॉ. कफील खान के छोटे मामा थे। पुराने रईस होने की वजह से शहर में कई जगह इनका जमीन का विवाद भी चल रहा था। कई मामले में न्यायालय में विचाराधीन हैं।

जानकारी के मुताबिक, तीन भाइयों में सबसे छोटे नुसरत उल्लाह खां रोजाना ही रात में खाना खाने के बाद पड़ोसी सिराज तारिक के घर में कैरम खेलने जाते थे। शुक्रवार की रात दस बजे के करीब वह कैरम खेलने गए थे। ग्यारह बजे वह वहां से घर के लिए लौट रहे थे।

Also Read: पीएम मोदी ने जिस पुल का किया था शिलान्यास, उसे बनाने के लिए नहीं मिल रहे ठेकेदार

घर के अंदर से ही रास्ता था मगर वह बाहर के रास्ते अपने गेट पर पहुंचे। आसपास के लोगों के मुताबिक एक बाइक सवार वहां पर मौजूद था। वह नुसरत के कंधे पर हाथ डालकर बात करते हुए अंदर गया और फिर गेट के अंदर घर में साथ घुसा। आंगन के पास उसने गोली मार दी और वह नीचे गिरकर तड़पने लगे।

गोली की आवाज सुनकर बेटी तायब दौड़ पड़ी। शोर मचाने पर आसपास के लोग भी मौके पर पहुंच गए मगर तब तक बदमाश फरार हो गए थे। लोग उन्हें अस्पताल ले जाते इसके पहले ही उनकी मौत हो गई थी। बदमाशों ने आंख के नीचे, मुंह के बीच में गोली मारी है। पुलिस बदमाश और हत्या के वजह की तलाश में जुटी है। क्राइम ब्रांच की टीम भी मौके पर पहुंच गई थी।

Also Read: Netflix अपने ग्राहकों को दे रहा है 5 रूपये में महीने भर का प्लान, जानिए किन्हे मिलेगा ये खास ऑफर

आंख के नीचे गोली मारकर हत्या की गई है। आरोपित और हत्या के वजह की पुलिस पड़ताल कर रही है। पुलिस, क्राइम ब्रांच की टीम लगी है, जल्द ही घटना का पर्दाफाश कर लिया जाएगा।
डॉ. कौस्तुभ, एसपी सिटी